हर 15 दिन में मुंह में छाले हो जाएं तो हो जाएं सावधान, हो सकते हैं इन समस्याओं के शिकार

0 119

खराब जीवनशैली न केवल लोगों के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य बल्कि लोगों के मौखिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित करती है। जी हां, आजकल लोगों में मुंह के छालों की समस्या काफी बढ़ गई है। हालत यह है कि अक्सर लोग मुंह के छालों से परेशान रहते हैं। कुछ लोगों की यह स्थिति होती है कि उन्हें हर 15 दिन में मुंह में छाले हो जाते हैं। लेकिन, इसे हल्के में नहीं लेना चाहिए और नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। क्‍योंकि यह शरीर में कुछ विटामिन्स की कमी के साथ-साथ कुछ बीमारियों का संकेत है। आइए जानें कैसे?

मुंह के छाले किन कारणों से होते हैं?

हार्मोनल असंतुलन के कारण

शीत घाव ज्यादातर हार्मोनल असंतुलन से जुड़े होते हैं। वास्तव में, पीरियड्स के दौरान होने वाले हार्मोनल परिवर्तन, विशेष रूप से प्रोजेस्टेरोन में वृद्धि, मुंह के छाले का कारण बन सकते हैं।

हरपीज रोग

दाद सिंप्लेक्स वायरस के कारण होने वाले ओरल हर्पीज, होंठ, मुंह या मसूड़ों के संक्रमण का कारण बन सकते हैं। यह एक विषाणुजनित रोग है। इसमें मुंह में छोटे-छोटे दर्दनाक छाले बन जाते हैं, जो आमतौर पर हर्पीज लैबियालिस के लक्षण माने जाते हैं। इस रोग में मुंह में बार-बार छाले हो जाते हैं।

शरीर में पित्त की मात्रा का बढ़ना

शरीर में पित्त की समस्या कई कारणों से हो सकती है। दरअसल, हाइपरबिलिरुबिनेमिया का मतलब है कि आपके शरीर में गर्मी इतनी बढ़ गई है कि इससे मुंह में छाले हो गए हैं। जो वास्तव में मसालेदार और अधिक तेल वाली चीजों के अधिक सेवन से हो सकता है।

पाचन तंत्र से संबंधित रोगों के कारण

पाचन तंत्र की खराबी के कारण मुंह में छाले हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, जब आपका शरीर भोजन को ठीक से पचा नहीं पाता है, तो शरीर अधिक अपशिष्ट और अम्ल उत्पन्न करेगा, जिससे आपको मुंह के छाले हो सकते हैं।

विटामिन की कमी और मुंह के छाले

जिन लोगों में विटामिन बी और सी की कमी होती है उनमें मुंह के छाले होने की संभावना अधिक होती है। ऐसे में इन विटामिन्स की कमी को नजरअंदाज न करें, डॉक्टर से सलाह लें और उनके बताए अनुसार मुंह के छालों का इलाज करें।

 

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply