24 साल तक की उम्र की 50 फीसदी महिलाएं अभी करती हैं मासिक धर्म में घरेलु कपड़ों का इस्तेमाल, इनसे होता है खतरा

7,327

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) की एक हालिया रिपोर्ट के अनुसार, 15 से 24 वर्ष की आयु के बीच की लगभग 50 प्रतिशत महिलाएं अभी भी मासिक धर्म के दौरान सैनिटरी नैपकिन के बजाय घरेलु नैपकिन का उपयोग करती हैं। वे ऐसा इसलिए करते हैं क्योंकि वे जागरूक नहीं हैं। रिपोर्ट में विशेषज्ञों ने चिंता व्यक्त की है कि महिलाओं द्वारा अशुद्ध कपड़ों के पुन: उपयोग से कई स्थानीय संक्रमणों का खतरा बढ़ जाता है। हाल ही में जारी NFHS-5 रिपोर्ट में, 15-24 आयु वर्ग की महिलाओं से पूछा गया था कि क्या वे मासिक धर्म के दौरान सुरक्षा के किसी भी तरीके का इस्तेमाल करती हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में 64 फीसदी महिलाएं सैनिटरी नैपकिन, 50 फीसदी कपड़े और 15 फीसदी स्थानीय रूप से बने नैपकिन का इस्तेमाल करती हैं। कुल मिलाकर, इस आयु वर्ग की 78% महिलाएं मासिक धर्म की सुरक्षा के स्वस्थ तरीके का उपयोग करती हैं।

ध्यान दें कि स्थानीय रूप से बने नैपकिन, सैनिटरी नैपकिन, टैम्पोन और मेंस्ट्रुअल कप को हाइजीनिक प्रक्रिया माना जाता है। डॉ आस्था दयाल द्वारा किए गए कई अध्ययनों से पता चला है कि बैक्टीरियल वेजिनोसिस या मूत्र पथ के संक्रमण (यूटीआई) से पेट में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि ये संक्रमण पेट में फैल सकता है, जिससे गर्भवती महिलाओं को प्रसव के दौरान जटिलताएं हो सकती हैं। इसके अलावा, लंबे समय तक असंयम से सर्वाइकल कैंसर का खतरा बढ़ सकता है। एनएफएचएस की रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि जिन महिलाओं ने स्कूली शिक्षा के 12 साल या उससे अधिक पूरे कर लिए हैं। ऐसी महिलाएं गैर-विद्यालय महिलाओं (मासिक धर्म संरक्षण) की तुलना में स्वच्छता के तरीकों (90% बनाम 44%) का उपयोग करने की संभावना से दोगुने से अधिक हैं।

बिहार, मध्य प्रदेश और मेघालय ऐसे राज्य हैं जहां भौगोलिक आधार पर अल्पकालिक सुरक्षा के लिए महिलाओं का प्रतिशत सबसे अधिक है। बिहार में 59% महिलाएं, मध्य प्रदेश में 61% और मेघालय में 65% महिलाएं मासिक धर्म की सुरक्षा के लिए स्वच्छ विधि का उपयोग करती हैं।

80% महिलाएं बिना स्कूल गए सैनिटरी पैड का इस्तेमाल करती हैं। 80% महिलाएं बिना स्कूल गए सैनिटरी पैड का इस्तेमाल करती हैं। पॉपुलेशन फाउंडेशन ऑफ इंडिया की कार्यकारी निदेशक पूनम मुत्रेजा ने कहा कि एनएफएचएस-5 का शिक्षा, धन और स्वच्छता के बीच सीधा संबंध है। उन्होंने कहा कि अस्सी प्रतिशत गैर-स्कूली महिलाएं सैनिटरी पैड का उपयोग करती हैं, जबकि केवल 35.2 प्रतिशत महिलाएं जिनके पास 12 पास या इससे अधिक हैं, वे सैनिटरी पैड का उपयोग करती हैं। उन्होंने कहा कि मासिक धर्म की सुरक्षा के लिए कपड़े का उपयोग ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं में अधिक प्रचलित है, जबकि शहरी क्षेत्रों में यह 31.5 प्रतिशत, 57.2 प्रतिशत है।

मुत्रेजा के अनुसार, पीरियड्स के बारे में बात न कर पाने का कारण यह है कि सबसे गरीब महिलाओं के सबसे अमीर महिलाओं की तुलना में कपड़ों का इस्तेमाल करने की संभावना लगभग 3.3 गुना अधिक है।
मासिक धर्म के बारे में बात करने पर प्रतिबंध या प्रतिबंध महिलाओं को सैनिटरी नैपकिन तक पहुंचने से रोकता है।
उन्होंने कहा कि मासिक धर्म की स्वच्छता में सुधार के लिए लड़कियों की शिक्षा में निवेश करने की आवश्यकता है।

सामाजिक कार्यकर्ता और सेंटर फॉर सोशल रिसर्च की निदेशक रंजना कुमारी ने कहा
यानी मासिक धर्म के दो पहलुओं को समझना जरूरी है
एक तो मासिक धर्म की शर्मिंदगी और दूसरी ये कि लड़कियां इसे किसी से शेयर नहीं करती हैं।
वह प्रधानमंत्री के भारतीय हर्बल मेडिसिन प्रोजेक्ट (पीएमबीजेपी) का जिक्र कर रहे थे।
इस योजना के तहत देश भर के केंद्रों में सैनिटरी नैपकिन न्यूनतम 1 रुपये प्रति पैड की दर से उपलब्ध कराया जाता है।
लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको अभी भी नैपकिन के लिए पैसे की जरूरत है।
इसका मतलब है कि अगर लड़कियों को 12 नैपकिन चाहिए तो उन्हें अपने माता-पिता से 12 रुपये मांगने होंगे।
वह किस काम के बारे में बताने से हिचकिचाएंगे।

माता-पिता को लग सकता है कि यह पैसे की बर्बादी है, इसलिए माता-पिता को लड़कियों के स्वास्थ्य के लिए परामर्श की आवश्यकता है।
2019-21 के दौरान, NFHS-5 का आयोजन देश भर के 28 राज्यों और आठ केंद्र शासित प्रदेशों के 707 जिलों में किया गया था।
करीब 6.37 लाख परिवारों के सैंपल लिए गए।
सर्वेक्षण में कुल 7,24,115 महिलाओं और 1,01,839 पुरुषों ने भाग लिया।
ध्यान दें कि राष्ट्रीय रिपोर्ट सामाजिक-आर्थिक और अन्य पृष्ठभूमि विशेषताओं के माध्यम से भी डेटा प्रदान करती है,
जो नीति निर्माण और प्रभावी कार्यक्रम कार्यान्वयन के लिए उपयोगी है।

(अस्वीकरण : हम इस लेख में निर्धारित किसी भी कानून, प्रक्रिया और दावों का समर्थन नहीं करते हैं।
उन्हें केवल सलाह के रूप में लिया जाना चाहिए। ऐसे किसी भी उपचार/दवा/आहार को लागू करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है।)

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.