कोलेस्ट्रॉल बढ़ने से हो सकती हैं दिल की ये तीन बीमारियां, ऐसे करें कंट्रोल

0 162

पिछले कुछ समय से देश में हार्ट अटैक के मामले बढ़ते जा रहे हैं। अब कम उम्र में ही लोगों को दिल की बीमारियां हो रही हैं। हार्ट अटैक से कई लोगों की मौके पर ही मौत हो रही है। हृदय रोग के कई कारण होते हैं। बैड कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना भी एक प्रमुख कारण है। जिससे कई मामलों में हार्ट अटैक भी आ जाता है। आइए जानें कि कोलेस्ट्रॉल दिल को कैसे नुकसान पहुंचाता है। जानिए इस बारे में डॉक्टर क्या कहते हैं।

एक वरिष्ठ चिकित्सक का कहना है कि कोलेस्ट्रॉल एक प्रकार का वसा है। शरीर में कोलेस्ट्रॉल लेवल का सही होना जरूरी है। अगर शरीर में इसकी मात्रा बढ़ने लगे तो दिल से जुड़ी परेशानियां शुरू हो जाती हैं। खराब कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने से रक्त वाहिकाएं बंद हो जाती हैं। जिससे शरीर में खून और ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाता है। जिससे हृदय की कार्यक्षमता कम हो जाती है। जो बाद में हार्ट अटैक का कारण बनता है।

डॉक्टरों का कहना है कि कोलेस्ट्रॉल खराब और अच्छा दोनों होता है। इन्हें एचडीएल और एलडीएल कहा जाता है। इसमें अच्छे कोलेस्ट्रॉल का स्तर 60 से ऊपर और खराब कोलेस्ट्रॉल का स्तर 120 से नीचे होना चाहिए। हालांकि 200 के भीतर का स्तर भी उपयुक्त माना जाता है। शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर सामान्य होना बहुत जरूरी है। लेकिन अगर यह बढ़ता है, तो यह हृदय की धमनियों के चारों ओर थक्का जमा सकता है, जिससे अक्सर प्लाक बनने का खतरा होता है। यह स्थिति एथेरोस्क्लेरोसिस का रूप ले लेती है।

कई मामलों में कोई लक्षण नहीं होते हैं

एक वरिष्ठ डॉक्टर का कहना है कि शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के लक्षणों को आसानी से पहचाना नहीं जा सकता और हार्ट अटैक अचानक आ जाता है। ऐसे में हर 6 महीने में कम से कम एक बार लिपिर प्रोफाइल टेस्ट करवाना जरूरी है। इससे शरीर में कोलेस्ट्रॉल की सही मात्रा का पता चल सकता है। ऐसे में समय रहते बचाव किया जा सकता है।

ये तीन रोग हृदय में होते हैं

कई मामलों में बैड कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने से कई तरह की बीमारियां हो जाती हैं। इनमें तीन प्रमुख हैं।

  • परिधीय धमनी रोग
  • कैरोटिड धमनी रोग
  • दिल की धमनी का रोग

इस तरह ख्याल रखें 

  • अपनी जीवनशैली को समायोजित करें और सोने और जागने का समय निर्धारित करें
  • वजन नियंत्रित रखें और आहार में कार्बोहाइड्रेट और वसा की मात्रा कम करें
  • धूम्रपान न करें और शराब न पियें
  • हर दिन व्यायाम
  • अगर आप डेस्क जॉब करते हैं तो काम के बीच में ब्रेक लें।

नोट: स्वास्थ्य संबंधी लेख पाठक के ज्ञान और जागरूकता को बढ़ाने के लिए तैयार किए जाते हैं। उपरोक्त लेख में उल्लिखित जानकारी के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करें। 

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply