मामूली चीज नहीं है चना का सत्तू, रोज पीने से मिलते हैं शरीर को ये 7 फायदे

630

चना बहुत ही पौष्टिक होता है, खासतौर पर काला चना। इसी काले चने को भूनकर और पीसकर सत्तू तैयार किया जाता है। ये सत्तू प्रोटीन, फाइबर और कार्बोहाइड्रेट आदि से भरपूर होता है। इस सत्तू का शरबत हमारे सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसको पीने से ना केवल हमारे शरीर को पर्याप्त ऊर्जा मिलती है, बल्कि कई बीमारियां दूर करने में भी यह सहायता करता है। यह शरीर के तीनों विकार वात, पित्त और कफ को भी नियंत्रित करता है। आगे हम इसके जो अद्भुत फायदे बताने वाले हैं, उन्हें जानकर आप भी इसका सेवन आरंभ कर देंगे।

इंडियन बैंक ने निकली नौकरियां – देखें यहाँ पूरी डिटेल 

RSMSSB Patwari Recruitment 2020 : 4207 पदों पर भर्तियाँ- अभी आवेदन करें

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

sattu peene ke fayde

पेट के लिए गुणकारी

चना में पर्याप्त फाइबर पाया जाता है। ऐसे में इससे तैयार सत्तू का सेवन प्रतिदिन करने से हाजमा दुरुस्त रहता है। साथ ही उम्र ढलने या गरिष्ठ भोजन करने के कारण होने वाली कब्जियत से भी यह छुटकारा दिलाता है। इसमें उपस्थित फाइबर भोजन के पाचन में सहायता करता है, जिससे अपच या गैस जैसी पेट की अन्य समस्याएं भी दूर रहती हैं। यह पेट को ठंडा रखता है, जिस कारण गर्मी के दिनों में इसका सेवन फायदेमंद रहता है।

lazy for exercise

थकान दूर कर ऊर्जा बढ़ाए

गर्मी के दिनों में जब शरीर से अधिक पसीना निकलता है तो इससे डिहाइड्रेशन और थकान जैसी समस्या हो जाती है। ऐसे में चने का सत्तू शरीर की थकान दूर करने और ऊर्जा प्रदान करने में फायदेमंद है। इसमें कार्बोहाइड्रेट के साथ साथ आयरन, फास्फोरस और मैग्नीशियम जैसे कई खनिज तत्व भी मौजूद होते हैं, जो शरीर को तत्काल ऊर्जा प्रदान करने में सहायता करते हैं। हर रोज इसके सेवन से थकान और कमजोरी दूर रहती है और शरीर की ऊर्जा बनी रहती है। साथ ही यह लू लगने से भी बचाता है।

This is a powerful treatment for women suffering from anemia, these domestic things must be seen as very beneficial.

loading...

एनीमिया रोग से बचाए

शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की कमी होने पर एनीमिया रोग का खतरा रहता है। ऐसे में हर रोज चने के सत्तू का सेवन लाभकारी रहता है। क्योंकि इसमें आयरन उपस्थित होता है, जो शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में सहायता करता है। इससे यह एनीमिया के खतरे से भी बचाता है।

Never ignore this diabetes ie 'silent killer'

डायबिटीज में गुणकारी

डायबिटीज के मरीजों के लिए चने के सत्तू का सेवन एक औषधि के समान कार्य करता है, क्योंकि इसमें उपस्थित भी बीटा ग्लूकन शरीर में ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करने में सहायता करता है। ऐसे में मधुमेह रोगियों को प्रतिदिन चने के सत्तू का सेवन काले नमक के साथ करना चाहिए। अगर मधुमेह रोगी चने और जौ के मिक्स सत्तू का सेवन करें तो इससे इसके फायदे कई गुना बढ़ जाते हैं।

मोटापा घटाने में मददगार

अगर आप वजन कम करने की सोच रहे हैं तो चने के सत्तू का शरबत आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। इसके लिए आपको घंटों भूखे रहकर डाइटिंग करने की भी जरूरत नहीं है। क्योंकि चने का सत्तू भूख कम करने में भी सहायक होता है। इसका सेवन करने के पश्चात ज्यादा खाने की इच्छा नहीं रहती है। इससे हमारा वजन भी संतुलित रहता है। इस प्रकार यह मोटापे को कम करने में भी सहायता करता है।

these-things-are-used-to-reduce-blood-loss-in-the-body (1)

रक्त की सफाई

रक्त की अशुद्धियों को डिटॉक्सिफाई करने में भी चने का सत्तू फायदेमंद होता है। हर रोज खाली पेट इसका सेवन करने से खून साफ होता है। साथ ही चने के सत्तू का शरबत पीने से आंखों से संबंधित बीमारियां भी दूर रहती हैं और नजर कमजोर नहीं होती है।

Just this 10 rupee thing can correct your badly damaged liver.

मसल्स और लिवर रखे स्वस्थ

चने के सत्तू में पर्याप्त प्रोटीन पाया जाता है, जो मसल्स को मजबूत बनाने में सहायता करता है। साथ ही यह हड्डियों के लिए भी फायदेमंद होता है। ऐसे में अगर आप जिम करते हैं तो चने के सत्तू का शरबत आपके लिए प्रोटीन शेक का काम कर सकता है। इसके अतिरिक्त हर रोज खाली पेट चने के सत्तू का शरबत पीने से लिवर से जुड़ी समस्याएं भी दूर रहती हैं।

अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.