इंसुलिन की कमी से बढ़ती है डायबिटीज, जाने क्या करें और क्या नहीं

173

आपने उच्च रक्त शर्करा या मधुमेह के रोगियों को इंसुलिन की खुराक लेते देखा होगा। मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए इंसुलिन संवेदनशीलता की आवश्यकता होती है। इंसुलिन अग्न्याशय द्वारा निर्मित एक हार्मोन है। हालांकि, यह हार्मोन मधुमेह के रोगियों (मधुमेह रोगियों के लिए Health Tips) में नहीं बनता है। टाइप 1 मधुमेह में, समस्या जन्मजात होती है (स्वाभाविक रूप से इंसुलिन संवेदनशीलता को बढ़ावा देने के लिए आहार युक्तियाँ)।

वहीं, टाइप 2 मधुमेह का कारण इंसुलिन का कम उत्पादन या शरीर का अनुचित उपयोग (टाइप 2 मधुमेह आसान जीवन शैली और आहार) है। इस स्थिति को इंसुलिन प्रतिरोध कहा जाता है। तो, शरीर द्वारा इंसुलिन के उचित उपयोग की प्रक्रिया को इंसुलिन संवेदनशीलता कहा जाता है।

इन्सुलिन का आवश्यक आहे? (What Is Insulin And It’s Significance)
पाचन तंत्र भोजन से कार्बोहाइड्रेट को ग्लूकोज में परिवर्तित करता है। वहीं, इंसुलिन ग्लूकोज के मेटाबॉलिज्म और भोजन से प्राप्त वसा को नियंत्रित करता है। इंसुलिन शरीर को भोजन से मिलने वाली ऊर्जा का उपयोग करने में मदद करता है। इसलिए, जब शरीर में इंसुलिन की मात्रा कम हो जाती है, तो कोशिकाओं को ग्लूकोज से ऊर्जा नहीं मिल पाती है।

इस स्थिति में शरीर को वसा से ऊर्जा मिलने लगती है। यह स्थिति स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होती है। सीधे शब्दों में कहें, इंसुलिन शरीर को वसा से ऊर्जा प्राप्त करने से रोकता है और अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है। इन प्राकृतिक तरीकों का इस्तेमाल आप शरीर में इंसुलिन के उत्पादन को बढ़ाने के लिए कर सकते हैं।

शारीरिक रूप से सक्रिय रहें

जो लोग आलसी होते हैं और व्यायाम नहीं करते उन्हें मधुमेह होने का खतरा अधिक होता है। इसलिए शारीरिक रूप से सक्रिय रहने से इंसुलिन संवेदनशीलता बढ़ जाती है। यह मधुमेह के लक्षणों को भी कम करता है और आपको ऊर्जावान और तरोताजा महसूस कराता है।

वजन –

मोटापा मधुमेह को बदतर बना सकता है। मोटापा भी मधुमेह का एक प्रमुख कारण है।
इसलिए अपने वजन को कंट्रोल में रखें। वजन कम करने के लिए उचित जीवनशैली, व्यायाम और आहार की मदद लें।
तो इंसुलिन का स्तर अच्छा रहेगा।

फायबर युक्त अन्न (Fiber-Rich-Food) –

डाइटरी फाइबर शरीर के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है। इससे वजन कम होता है, पाचन तंत्र ठीक से काम करता है और शरीर का उचित कामकाज होता है।

खान-पान का रखें ध्यान-

मधुमेह के प्रबंधन और रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में आहार एक प्रमुख भूमिका निभाता है।
आप जो खाते हैं उसके आधार पर आपका रक्त शर्करा का स्तर बढ़ता या गिरता है।
यह इंसुलिन प्रतिरोध और इंसुलिन संवेदनशीलता पर भी निर्भर करता है। इसलिए अपने खान-पान पर विशेष ध्यान दें।

सब्जियां और फल जैसे आंवला, रतालू, जीरा, ब्रोकली और भिंडी खाएं। आलू, चीनी, मीठे फल और स्टार्चयुक्त खाद्य पदार्थों से बचें।

8 घंटे की नींद है जरूरी –

नींद की कमी से तनाव बढ़ता है, जो मधुमेह का एक प्रमुख कारण है।
इसके अलावा, नींद की कमी से हृदय रोग और मोटापे जैसी समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है।
विशेषज्ञों के अनुसार, रात में 8 घंटे की नींद लेने से शरीर में इंसुलिन का उत्पादन बढ़ता है और मधुमेह का खतरा कम होता है।

(अस्वीकरण : हम इस लेख में निर्धारित किसी भी कानून, प्रक्रिया और दावों का समर्थन नहीं करते हैं।
उन्हें केवल सलाह के रूप में लिया जाना चाहिए। ऐसे किसी भी उपचार/दवा/आहार को लागू करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है।)

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.