खड़े होकर दूध और बैठे-बैठे पानी क्यों पीते हैं? आयुर्वेद ने बताया गया इसका बड़ा कारण

0 336
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

स्वास्थ्य समाचार : आयुर्वेद के अनुसार खाने-पीने से जुड़ी कई ऐसी बातें हैं, जिनका पालन न करने पर व्यक्ति में कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं पैदा हो जाती हैं। इन्हीं समस्याओं में से एक है पानी और दूध पीने का गलत तरीका। आइए जानें कि खड़े होकर दूध और बैठकर पानी पीने की सलाह क्यों दी जाती है।

खड़े होकर दूध क्यों पीते हैं?

आयुर्वेद के अनुसार दूध सर्दी, वात और पित्त दोष को संतुलित करने का काम करता है। जो लोग बैठकर दूध पीते हैं उन्हें अपच की समस्या होती है। इसीलिए आयुर्वेद में रात को सोने से पहले या शाम के भोजन के दो घंटे बाद गर्म दूध पीने की सलाह दी जाती है ताकि व्यक्ति को इसका पूरा लाभ मिल सके।

खड़े रहकर दूध पीने के फायदे

खड़े दूध पीने से आपके घुटनों में दर्द नहीं होता है, मांसपेशियों के लिए अच्छा है, कैंसर के खतरे को कम करता है, हृदय रोग और उच्च रक्तचाप से बचाता है, और आपकी आंखों और त्वचा के लिए अच्छा है।

बैठकर पानी क्यों पीते हैं?

आयुर्वेद के अनुसार खड़े होकर पानी पीने से एलिमेंटरी कैनाल और विंडपाइप को ऑक्सीजन की आपूर्ति बंद हो जाती है। जिसका असर सिर्फ फेफड़े ही नहीं बल्कि दिल पर भी पड़ता है। साथ ही अगर आप खड़े होकर पानी पीते हैं, तो अतिरिक्त पानी पेट के निचले हिस्से की दीवारों पर दबाव बनाता है, जिससे पेट के आसपास के अंगों को बड़ा नुकसान होता है।

इस बुरी आदत के कारण कई लोग जोड़ों के दर्द और हर्निया से पीड़ित होते हैं। बिना रुके पानी पीने से एसिडिटी, गैस, डकार जैसी समस्याएं भी होने लगती हैं। कभी भी खड़े होकर पानी नहीं पीना चाहिए। हमेशा बैठकर पानी पिएं।

बैठकर पानी पीने के फायदे

अध्ययनों के अनुसार, बैठकर पानी पीने से पानी ठीक से पचता है और शरीर की सभी कोशिकाओं तक पहुंचता है। शरीर द्वारा आवश्यक मात्रा में पानी को अवशोषित करने के बाद, यह शेष पानी और विषाक्त पदार्थों को मूत्र के माध्यम से शरीर से बाहर निकाल देता है। बैठे-बैठे पानी पीने से खून में मौजूद हानिकारक तत्व नहीं घुलते, बल्कि यह खून को साफ करता है। इसलिए बैठकर पानी पीना अच्छा माना जाता है।

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.