गर्भाशय नाली कैंसर के लक्षण और पहचान

0 110

यह क्या है?

गर्भाशय नाली का कैंसर गर्भाशय ग्रीवा की कोशिकाओं में विकसित होता है (वह भाग जो गर्भाशय को गुप्तांग से जोड़ता है)

इसका क्या कारण है?

हमें निश्चित रूप से सभी कारको का नहीं पता जो गर्भाशय नाली में कैंसर पैदा करता है। परंतु, मानव papillomavirus (एचपीवी) के कुछ संक्रमण गर्भाशय नाली की कोशिकाओं में तेजी से बदलाव कर सकते हैं जो कुछ महिलाओं में कैंसर विकसित कर सकते हैं। एचपीवी यौन संचारित है, और एक बहुत व्यापक संक्रमण है। गर्भनिरोधक (कंडोम) का प्रयोग एचपीवी संक्रमण के जोखिम को कम कर सकता है। लेकिन यह निश्चित रूप से सुरक्षित नहीं है क्योंकि यह वायरस जननांग क्षेत्र जो गर्भनिरोधक द्वारा कवर नहीं है कि त्वचा के संपर्क में आने से फैलता है।
वर्तमान समय में, 9 से 26 वर्ष की लड़कियों को उद्देश्य में रखकर एक मुक्त एचपीवी विरोधी टीका अभियान चलाया गया है। आप अपने डॉक्टर या स्थानीय CLSC में फोन करके और अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

आम लक्षण क्या हैं?

हमल अवधि के दौरान, यह जरूरी नहीं कि गर्भाशय नाली के कैंसर किसी लक्षण के साथ दिखाई दें, लेकिन जब कैंसर और अधिक बढ़ जाता है नीचे दिए कारण हो सकते हैं।

  • मासिक धर्म के बीच गुप्तांग से खून बहना।
  • यौन संबंध के बाद गुप्तांग से खून बहना।
  • श्रोणि में दर्द।
  • यौन संबंध के दौरान दर्द।
  • रजोनिवृत्ति के बाद गुप्तांग से खून बहना।

इन लक्षणों के दिखने का यह अर्थ नहीं है कि किसी को गर्भाशय नाली का कैंसर हो सकता है। यह अन्य प्रकार का कैंसर हो सकता है।, केवल अतिरिक्त परीक्षण निर्धारित कर सकते हैं कि यह कैंसर है या वास्तव में कैंसर नहीं है।

गर्भाशय नाली के कैंसर की पहचान

चिकित्सक या स्त्री रोग विशेषज्ञ द्वारा दिए गये पैप परीक्षण, कैंसर के विकसित होने से पहले गर्भाशय नाली मंे असामान्य कोशिकाओं की उपस्थिति निर्धारित कर सकता है। यह परीक्षण (पैप स्मीयर) दर्दनाक नहीं है और गर्भाशय नाली से कुछ कोशिकाओं को दूर करने में सहायक होता है।
इसलिए, जल्दी पता लगाने से पूर्व कैंसर कोशिकाओं के लिए सबसे तेज और सबसे विश्वसनीय इलाज सुनिश्चित करता है।

loading...

loading...

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.