मधुमेह से बचाए अपनी आंखों को

103

अधिक समय तक बने रहने वाला डायबिटीज़ (मधुमेह) शरीर के दूसरे अंगों को भी प्रभावित करता है और यह प्रभावित अंग आपकी आंखें भी हो सकती हैं। जैसा की आप जानते हैं डायबिटीज़ रक्त वाहिकाओं की दीवार को प्रभावित करता है, जिससे रेटिना तक आक्सीजन ले जाने वाली नाडि़यां कमज़ोर हो जाती हैं।

डायबिटीज़ के मरीज़ों में अगर शुगर की मात्रा नियंत्रित नहीं रहती, तो वह डायबिटिक रेटिनोपैथी के शिकार हो सकते हैं। इस समस्या् का पता तब चलता है जब यह बीमारी गंभीर रूप ले लेती है।याद रखे की आंख सही हे तो जहाँ हमारा  है, अन्यथा सब दूर अँधेरा हे।

  अंधेपन का एक प्रमुख कारण है ‘डायबिटिक रेटिनोपैथी’।
रेटीनोपैथी के शुरूवाती लक्षण:
• चश्मे का नम्बकर बार-बार बदलना
• सफेद मोतियाबिंद या काला मोतियाबिंद
• आंखों का बार-बार संक्रमित होना
• सुबह उठने के बाद कम दिखाई देना
• रेटिना से खून आना
• सरदर्द रहना या एकाएक आंखों की रोशनी कम हो जाना
सामान्य व्याक्ति की तुलना में डायबिटीज़1 और डायबिटीज़2 के मरीज़ों में मोतियाबिंद होने की अधिक संभावना रहती है।
सुरक्षा के उपाय :
• समय-समय पर आंखों की जांच करायें, यह जांच बच्चों में भी आवश्य क है।
• रक्त। में कालेस्ट्राल और शुगर की मात्रा को नियंत्रित रखें।
• अगर आपको आखों में दर्द, अंधेरा छाने जैसे लक्षण दिखाई दें तो तुरंत चिकित्सक से मिलें।
• डायबिटीज़ के मरीज़ को साल में कम से कम एक बार अपनी आंखों की जांच करानी चाहिए।
• डायबिटीज़ होने के दस साल बाद हर तीन महीने पर आंखों की जांच करायें।
• गर्भवती महिला अगर डायबिटिक है तो इस विषय में चिकित्सक से बात करे।
Sab Kuch Gyan से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे…

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

loading...

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.