आंवला के बीज का उपयोग कैसे करे आंवले के बीज के स्वास्थ्य लाभ, अगर पानी के साथ लिया जाए, तो विकार’ ठीक रहेगा

170

स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए नियमित रूप से एक सेब खाने की सलाह देते हैं। इसी तरह, आयुर्वेद के अनुसार, एक आंवले का रोजाना सेवन शरीर को लगभग 20 बीमारियों से बचाने में मदद करता है। आंवला विटामिन सी और एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर होता है। इसके अलावा, पोटेशियम, कैल्शियम, कैरोटीन, कार्बोहाइड्रेट, लोहा, फाइबर, प्रोटीन, विटामिन एबी कॉम्प्लेक्स, मैग्नीशियम, खनिज, पॉलीफेनोल और मूत्रवर्धक एसिड भी बड़ी मात्रा में पाए जाते हैं।

आंवला फल, फूल, बीज, पत्ते, छाल और पेड़ की जड़ें आयुर्वेदिक दवा के रूप में उपयोग की जाती हैं। ये सभी चीजें आंखों, बालों और त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद हैं। हम इस बात का विवरण जानने जा रहे हैं कि आंवले के बीज के पाउडर का सही मात्रा में सेवन करने से किन बीमारियों को कम किया जा सकता है।

आंवला के बीज का उपयोग

How to use amla seeds Health benefits of gooseberry seeds, if taken with water, the disorder will be fine

नाक से खून बहना

नाक के छालों की समस्या को कम करने के लिए आंवला के बीजों का उपयोग करना चाहिए। आंवले के बीजों को घी में भूनें। फिर इन बीजों को मिक्सी में थोड़े से पानी में भिगो दें। पेस्ट तैयार होने के बाद, इसे अपने माथे पर पेस्ट की तरह लगाएं।

आँखों की समस्या

आंवला के बीज का उपयोग आंखों की समस्याओं के इलाज के लिए भी किया जाता है। आंखों की खुजली, आंखों की जलन, लाल आंखें आदि को ठीक करने के लिए मिक्सर में आंवला के बीज मिलाए जाते हैं। इन बीजों को पलकों पर और आँखों के नीचे लगाने से आपको आराम मिलेगा।

loading...

शरीर में पित्त पथरी की समस्या

एशियन पैसिफिक जर्नल ऑफ ट्रॉपिकल डिजीज द्वारा किए गए एक शोध के अनुसार, आंवला के बीज के पाउडर का सेवन पित्त पथरी, गुर्दे और मूत्राशय की पथरी के लिए एक उपाय के रूप में किया जाता है। इस पाउडर के उचित सेवन से पथरी के कारण पेशाब, सूजन आदि की समस्या को कम करने में मदद मिलती है। साथ ही आंवले का जूस पीना और आंवला खाना भी सेहत के लिए फायदेमंद है।

ल्यूकोरिया की समस्या से छुटकारा पाएं

आचार्य बालकृष्ण के अनुसार, ल्यूकोरिया को रोकने के लिए, सूखे आंवले के बीज का पाउडर तैयार करें और इसे सप्ताह में दो बार लें, यह स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकता है। एक और उपाय यह है कि तीन आंवले के बीज लें और उन्हें पानी में मिलाएं। फिर इस मिश्रण को एक गिलास पानी में मिलाएं। फिर मिश्रण को दूसरे गिलास में डालें। इसमें एक चम्मच शहद मिलाएं। इस मिश्रण को दिन में एक बार पिएं। यह धीरे-धीरे ल्यूकोरिया की समस्या से छुटकारा पाने में मदद करेगा।

त्वचा संबंधी समस्याएं

आंवला के बीज के पाउडर का उचित उपयोग त्वचा संबंधी समस्याओं को दूर करने में मदद करता है।

विधि 1 – बीज पाउडर तैयार करें और नारियल तेल में मिलाएं। इस पेस्ट को शरीर के प्रभावित हिस्से पर लगाएं। धीरे-धीरे आपको कुछ दिनों में आपकी त्वचा संबंधी समस्याओं से छुटकारा मिल जाएगा।

दूसरी विधि – आंवले के बीज को भूनकर उसका पाउडर तैयार करें। इस पाउडर को नारियल के तेल में मिलाएं। यह उपाय त्वचा की खुजली को कम करने में मदद करता है।

बुखार और पित्त के लिए फायदेमंद

आयुर्वेद के अनुसार, आंवला के बीज बुखार और पित्त की समस्याओं से राहत दिलाने में मदद करते हैं। आंवले के सेवन से शरीर को ठंडक मिलती है। खांसी की समस्या भी दूर हो जाती है। इसके औषधीय गुण शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का काम करते हैं। ये फेफड़ों को प्रदूषण से भी बचाते हैं।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.