क्यों सूर्योदय से पहले उठना आपके लिए जरूरी होता है।

918

आयुर्वेद में दिनचर्या वात, पित्त व कफ की प्रकृति को ध्यान में रखकर निर्धारित की जाती है. महिलाएं ज्यादा व्यस्त रहने के कारण अपनी स्वास्थ्य का खयाल नहीं रख पाती हैं. इस वजह से उन्हें स्वास्थ्य संबंधी कई तरह की परेशानियां धीरे-धीरे घेरने लगती हैं. ऐसे में प्रकृति के हिसाब से दिनचर्या तय करें तो स्वास्थ्य अच्छा रहेगी. महिलाएं भी प्रातः काल उठकर फ्रेश होने के बाद टहलने व योग-आसन के लिए समय जरूर निकालें.

बस कंडक्टर के लिए निकली बम्पर भर्तियाँ, बेरोजगार जल्दी करें आवेदन 

सरकार ने CISF ASI पदों पर निकाली है भर्तियाँ – अभी भरे फॉर्म 

UPSC ने निकाली विभिन्न विभिन्न पदों पर भर्तियाँ, योग्यतानुसार भरें आवेदन 

loading...

सूर्योदय से पहले उठकर व्यायाम करने व तिल के ऑयल की मालिश करनी से आपको मिलते है यह बड़े फायदे, जाने
सूर्योदय से पहले उठें: दिन की आरंभ सूर्योदय से पहले उठकर करें. प्रातः काल की ताजी हवा शरीर को स्फूर्ति व ताजगी देती है.


ऐसे करें शुद्धिकरण: प्रातः काल उठते ही नित्यकर्म से निपटें. इससे पेट में रातभर में जमा विषैले तत्त्व शरीर से बाहर निकल जाते हैं. पेट साफ होने के बाद नाक को साफ करें ताकि ऑक्सीजन अच्छा से ले सकें व नाड़ी साफ हो सके.

रोज 5-10 मिनट लें लंबी सांस-

नाश्ते से पहले खाली पेट व्यायाम व योग करें. जो शरीर में ऊर्जा व रक्त संचार को बढ़ाता है. खुली हवा में खड़े होकर 5 से 10 मिनट तक लंबी-लंबी सांस लेने से श्वांस संबंधी रोग नहीं होते हैं व फेफड़े भी मजबूत रहते हैं.

तिल के ऑयल से शरीर की मालिश 2-3 मिनट करने से शरीर हल्का लगता हैं. इससे वात का शमन होता है. शरीर की त्वचा, अंगों को पोषण मिलता है. मालिश के आधे घंटे बाद नहाएं.

दोपहर का भोजन: दोपहर का खाना 12 से 1 बजे के बीच कर लें, इससे पाचन तंत्र मजबूत रहेगा. दोपहर का खाना दिन का सबसे भारी भोजन होना चाहिए.

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.