नजरिया – Attitude Story in Hindi

Attitude-Story-in-Hindi
0 90

एक दिन एक अमीर व्यक्ति अपने बेटे को एक गाँव की यात्रा पर ले गया| वह अपने बेटे को यह बताना चाहता था वे कितने अमीर और भाग्यशाली है जबकि गाँवों के लोग कितने गरीब है| उन्होंने कुछ दिन एक गरीब के खेत पर बिताए और फिर अपने घर वापस लौट गए|

घर लौटते वक्त रास्ते में उस अमीर व्यक्ति ने अपने बेटे को पूछा – “तुमने देखा लोग कितने गरीब है और वे कैसा जीवन जीते है??

बेटे ने कहा – “हां मैंने देखा”

“हमारे पास एक कुता है और उनके पास चार है”

“हमारे पास एक छोटा सा स्वीमिंग पूल है और उनके पास एक पूरी नदी है”

“हमारे पास रात को जलाने के लिए विदेशों से मंगाई हुई कुछ महँगी लालटेन है और उनके पास रात को चमकने वाले अरबों तारें है”

“हम अपना खाना बाज़ार से खरीदते है जबकि वे अपना खाना खुद अपने खेत में उगाते है”

“हमारा एक छोटा सा परिवार है जिसमें पांच लोग है, जबकि उनका पूरा गाँव, उनका परिवार है”

“हमारे पास खुली हवा में घूमने के लिए एक छोटा सा गार्डन है और उनके पास पूरी धरती है जो कभी समाप्त नहीं होती”

“हमारी रक्षा करने के लिए हमारे घर के चारों तरफ बड़ी बड़ी दीवारें है और उनकी रक्षा करने के लिए उनके पास अच्छे-अच्छे दोस्त है”

अपने बेटे की बाते सुनकर अमीर व्यक्ति कुछ बोल नहीं पा रहा था| बेटे ने अपनी बात समाप्त करते हुए कहा –

“धन्यवाद पिताजी, मुझे यह बताने के लिए की हम कितने गरीब है”

Attitude is a little thing that makes a big difference

loading...

loading...