परशुराम जयंती पर जानिए भगवान परशुराम की 5 कहानियां और उनकी अमरता का रहस्य

0 266
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

भगवान विष्णु के छठे अवतार परशुरामजी ने वैशाख मास की तृतीया तिथि को अवतार लिया था। इसीलिए हर साल वैशाख मास की तृतीया यानी अक्षय तृतीया के दिन परशुराम जयंती मनाई जाती है। भगवान परशुरामजी को अवश अवतार माना जाता है। पुराणों में भगवान परशुराम की कुछ ऐसी कथाएं वर्णित हैं, जिनसे पता चलता है कि परशुराम अत्यंत गुस्सैल स्वभाव के थे। इसके साथ ही कथाओं से ज्ञात होता है कि परशुरामजी अमर हैं और सृष्टि के अंत तक धरती पर रहेंगे। आइए जानते हैं परशुराम जयंती पर भगवान परशुराम की 5 कथाएं।

भगवान परशुराम का क्रोधी स्वभाव क्यों

भगवान परशुराम जयंती ऋषि जमदग्नि और माता रेणुका के पुत्र हैं। पारिवारिक परंपरा के अनुसार परशुरामजी ब्राह्मण हैं लेकिन उनका स्वभाव क्षत्रिय जैसा है। उन्होंने अपने क्रोध में आकर पृथ्वी पर कई बार क्षत्रियों का विनाश किया। लेकिन उनका गुस्सा कैसे भड़क गया, इसकी एक कहानी है, ऋषि भृगु ने अपनी दादी सत्यवती को दो फल दिए, एक अपनी दादी सत्यवती के लिए और दूसरा अपनी दादी मां के लिए। लेकिन गलती से फलों की अदला-बदली हो गई।

इस कारण ऋषि भृगु ने सत्यवती से कहा कि तुम्हारा पुत्र क्षत्रिय स्वभाव का होगा। तो सत्यवती ने ऋषि भृगु से मुझे ऐसा वरदान देने के लिए कहा कि मेरा पुत्र ब्राह्मण जैसा होगा और मेरे पोते में क्षत्रिय के गुण होंगे। यह ऋषि भृगु के आशीर्वाद से हुआ।परशुरामजी ऋषि जमदग्नि की पांचवीं संतान बने जो बचपन से ही क्रोधी स्वभाव के थे।

भगवान परशुराम को यह परशु भगवान शिव से प्राप्त हुआ था

भगवान परशुरामजी का मूल नाम राम है। ऋषि जमदग्नि के पुत्र होने के कारण उन्हें जमदग्न्य भी कहा जाता है। लेकिन ये परशुरामजी के नाम से अधिक प्रसिद्ध हैं। परशुरामजी भी भगवान शिव के भक्त और शिष्य हैं। उनकी भक्ति और क्षमता को देखकर भगवान शिव ने उन्हें विद्युभि नाम दिया। ये संसार में परशुराम के नाम से प्रसिद्ध हैं क्योंकि ये सदैव परशु धारण करते हैं। आज भी लोग उनकी पूजा करते हैं।

परशुरामजी ने गणेश को दांत बना लिया

भगवान गणेश का एक नाम एकदंत है। कारण है कि गणेश जी का एक दांत टूट गया है। किवदंती है कि एक बार जब परशुरामजी अपने इष्टदेव भगवान शिव से मिलने कैलास पर्वत पर आए तो भगवान गणेश ने परशुरामजी का रास्ता रोक दिया। गणेशजी ने कहा कि अब पिता शिवजी से कोई नहीं मिल सकता। इस पर परशुरामजी ने शिवजी से मिलने की जिद की और फिर परशुरामजी का गणेश के साथ महायुद्ध शुरू हो गया। अंत में, गुस्से में परशुराम ने अपने परशु की मदद से गणेश के दांत पर हमला किया और इस तरह गणेश का एक दांत टूट गया और इसलिए उन्हें एकदंत के नाम से जाना जाने लगा।

परशुराम की भगवान राम को युद्ध की चुनौती

किंवदंती है कि जब भगवान राम ने सीता के स्वयंवर के दौरान भगवान शिव का धनुष तोड़ा था, तो पृथ्वी कांप उठी थी। परशुरामजी को पता चला कि किसी ने शिवजी का धनुष तोड़ दिया है। इस पर तेज-तर्रार परशुरामजी तुरंत महाराज जनक के दरबार में पहुंचे और शिवजी का धनुष तोड़कर भगवान राम को युद्ध के लिए ललकारा। उस समय भगवान राम ने परशुराम को एहसास कराया कि वह भगवान विष्णु के अवतार हैं। भगवान राम के रहस्य को जानने के बाद परशुरामजी का क्रोध शांत हो गया और भगवान श्री राम ने उनके अहंकार को नष्ट कर दिया। उसी समय भगवान राम ने परशुराम को अमरत्व का वरदान देते हुए कहा कि आप मेरे अगले अवतार तक मेरे सुदर्शन चक्र की रक्षा करेंगे। मुझे अगले अवतार में इसकी आवश्यकता होगी तब आप इसे मुझे वापस कर देंगे।

परशुराम भगवान कृष्ण से मिले

द्वापर में जब भगवान विष्णु ने श्रीकृष्ण के रूप में अवतार लिया तो परशुरामजी और भगवान श्रीकृष्ण की भेंट उस समय हुई जब वे गुरु सांदीपनि के आश्रम में शिक्षा ग्रहण कर घर लौटने की तैयारी कर रहे थे। उस समय परशुरामजी ऋषि सांदीपनि के आश्रम आए और अपना सुदर्शन चक्र भगवान श्रीकृष्ण को लौटाते हुए कहा कि अब यह आयु तुम्हारी है। आप अपने इस सुदर्शन चक्र का ध्यान रखें और धरती पर बढ़ रहे पाप के बोझ को कम करें।

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.