Income tax refund status: क्या आपको भी अपना इनकम टैक्स रिफंड नहीं मिला है? देरी का कारण क्या है? यहां चेक करें रिफंड की स्थिति…

0 147
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

आयकर वापसी की स्थितिIncome tax refund status: आकलन वर्ष 2022-23 (आयु 22-23) के लिए आयकर रिटर्न (आईटीआर) दाखिल करने की समय सीमा पहले ही बीत चुकी है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक करीब 5.83 करोड़ टैक्सपेयर्स ने डेडलाइन यानी 31 जुलाई तक आईटीआर फाइल किया है। इनमें से कई को संसाधित किया गया है और धनवापसी जारी की गई है।

हालांकि, अभी भी कई करदाताओं को अपना आयकर रिफंड नहीं मिल पाया है। धनवापसी की स्थिति की जांच करने का तरीका जानें और देरी के क्या कारण हैं। आयकर विभाग ने अब आईटीआर प्रोसेसिंग और रिटर्न जारी करने की प्रक्रिया को सरल कर दिया है। अब ज्यादातर टैक्सपेयर्स को आईटीआर फाइल करने के 2 हफ्ते के अंदर ही रिफंड मिल रहा है।

आयकर विभाग की नई व्यवस्था के तहत अब कोई भी करदाता रिटर्न दाखिल करने के 10 दिन बाद रिफंड की स्थिति की जांच कर सकता है। यदि आपको अपना रिटर्न दाखिल किए 10 दिन हो गए हैं और आपको अभी भी धनवापसी प्राप्त नहीं हुई है, तो आप कुछ सरल चरणों का पालन करके अपनी धनवापसी की स्थिति भी देख सकते हैं और देरी के कारण का पता लगा सकते हैं।

गलत बैंक खाते के कारण अटका रिफंड –

स्टेटस चेक करने का तरीका जानने से पहले आइए जानते हैं कि रिफंड में देरी के क्या कारण हैं। अटके हुए धनवापसी के प्रमुख कारणों में से एक बैंक खाते के विवरण में गलती है। यदि आप फॉर्म भरते समय अपने खाते का विवरण गलत दर्ज करते हैं, तो आपका धनवापसी अटक सकता है।

ऐसे में आपको इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की साइट पर अकाउंट डिटेल्स को सही करना होगा। बैंक खाते को पैन कार्ड से लिंक करना भी जरूरी है। इसके अलावा कुछ अतिरिक्त दस्तावेजों की आवश्यकता के कारण रिफंड मिलने में देरी हो रही है। आयकर विभाग कभी-कभी रिटर्न की प्रक्रिया के दौरान कुछ दस्तावेजों की मांग करता है।

टैक्स देय होने पर रिफंड नहीं दिया जाएगा-

इस बार रिटर्न मिलने में देरी का प्रमुख कारण नए फाइलिंग पोर्टल में कुछ तकनीकी गड़बड़ियां हैं। इससे रिफंड की प्रक्रिया धीमी हो गई। हालांकि, अब तकनीकी खराबी को दूर कर लिया गया है और प्रक्रिया तेज कर दी गई है। कई मामलों में टैक्स बकाया के कारण रिफंड अटक जाता है। हालांकि, इस स्थिति में भी आयकर विभाग नोटिस भेजकर करदाता को सूचित करता है।

रिफंड पाने के लिए आईटीआर वेरिफिकेशन जरूरी –

अगर आपने रिटर्न दाखिल किया है लेकिन उसे सत्यापित नहीं किया है, तो रिफंड फंसना स्वाभाविक है। जब तक आप इसे सत्यापित नहीं करेंगे, विभाग रिटर्न की प्रक्रिया नहीं करेगा।

यदि रिटर्न समय पर सत्यापित नहीं होता है, तो यह अमान्य हो जाता है और विभाग यह मान लेता है कि आपने रिटर्न दाखिल नहीं किया है। रिटर्न सत्यापित करने के 2 तरीके हैं। पहली विधि इलेक्ट्रॉनिक है, जिसे बैंक खाते या आधार से सत्यापित किया जा सकता है। दूसरा तरीका यह है कि आईटीआर-वी की एक हस्ताक्षरित प्रति डाक के माध्यम से भेजकर इसे सत्यापित किया जाए।

इनकम टैक्स रिटर्न स्टेटस कैसे चेक करें –

– सबसे पहले आयकर विभाग की इस वेबसाइट पर जाएं।
– यूजर आईडी और पासवर्ड डालकर लॉगइन करें।
– माई अकाउंट पर क्लिक करें और रिफंड/डिमांड स्टेटस खोलें।
– ड्रॉप डाउन मेन्यू में इनकम टैक्स रिटर्न चुनें।
– अब नॉलेज नंबर पर क्लिक करें।
– अब एक नया पेज खुलेगा, जहां आईटीआर की सारी डिटेल दिखाई देगी।
– पैन कार्ड की मदद से स्टेटस चेक करें:
– NSDL के इस डायरेक्ट लिंक को खोलें https://tin.tin.nsdl.com/oltas/servlet/RefundStatusTrack।
– अपना पैन नंबर दर्ज करें।
– आकलन वर्ष 2022-23 का चयन करें।
– सबमिट ऑप्शन पर क्लिक करें। इसके बाद आपको रिफंड की स्थिति दिखाई देगी।

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.