थायरॉइड से तबीयत बिगड़ी बिगड़ी सी रहती है तो अपनाएं यह 5 तरीकें रहेंगे स्‍वस्‍थ , अभी देखें

1,623

थायरॉइड एक धनुष के आकार की ग्रंथि है जो आपकी गर्दन में स्थित होता है। जो मेटाबॉलिज्‍म, शरीर के वजन, ऊर्जा और भोजन के मेटॉबॉलिज्‍म को विनियमित करने के लिए आवश्यक हार्मोन जारी करता है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

दुनिया भर में हर साल 25 मई को विश्व थायरॉइड दिवस मनाया जाता है।

थायरॉइड विकार जैसे हाइपोथायरायडिज्म और हाइपरथायरायडिज्म स्‍वप्रतिरक्षी समस्याओं, हार्मोनल असंतुलन, तनाव, पारिवारिक इतिहास और बैक्‍टीरियल इनफ्लामेशन के कारण होता है।

If the health of the thyroid worsens, then follow these 5 ways to be healthy, थायरॉइड

हाइपोथायरायडिज्म की वजह से वजन बढ़ सकता है तो वहीं दूसरी ओर एक हाइपरथायरायडिज्म वजन घटाने का भी काम करती है।

हालांकि यह दोनों स्थितियां स्‍वास्‍थ्‍य के लिए सही नहीं है, इससे बचने का सबसे अच्छा तरीका, स्वस्थ थायरॉइड को बनाए रखना है।

आज हम आपको 5 ऐसे टिप्‍स बता रहे हैं जिसके माध्‍यम से आप अपने थायरॉइड को स्‍वस्‍थ बनाए रख सकते हैं।

If the health of the thyroid worsens, then follow these 5 ways to be healthy, थायरॉइड

1: संतुलित आहार

थायरॉइड को स्वस्थ बनाए रखने के लिए सबसे जरूरी है संतुलित आहार। एक अस्वास्थ्यकर आहार आपके थायराइड की सामान्य कार्यप्रणाली को प्रभावित करता है।

आंतों में सूजन थायराइड की समस्याओं का कारण बन सकती है।

इस तरह की किसी भी समस्‍या को रोकने के लिए संतुलित आहार का होना जरूरी है।

रोजाना 4 से 5 प्रकार की सब्जियां और 3 से 4 तरह के फल का सेवन जरूर करना चाहिए।

2: प्रोसेस्‍ड फूड से बनाएं दूरी

ऐसे खाद्य पदार्थ जिनमें चीनी, रंग, कृत्रिम स्वाद और स्वीटर्स शामिल हैं उन्‍हें आहार में शामिल नहीं किया जाना चाहिए।

इसके अलावा, वसा मुक्त, चीनी मुक्त और कम वसा वाले खाद्य पदार्थों से बचा जाना चाहिए।

3: मोटापे से बचें

थायरॉइड समस्‍याओं का मुख्‍य कारक मोटापा हो सकता है।

इसलिए एक स्‍वस्‍थ थायराइड के लिए मोटापे से दूर रहें।

आपको अपने आहार सही रखने चाहिए, जिससे वजन नियंत्रित रहे।

4: हार्मोन का संतुलन

विशेषज्ञों को संदेह है कि गर्भवती और रजोनिवृत्ति महिलाएं हार्मोनल उतार-चढ़ाव के कारण थायराइड की समस्याओं से अधिक प्रभावित होती है।

गर्भवती महिलाओं में एस्ट्रोजेन वृद्धि होती है और रजोनिवृत्ति महिलाओं में गिरावट देखने को मिलता है।

5: आयो‍डीन लेवल को करें मेनटेन

अक्‍सर आयो‍डीन की कमी से थायरॉइड की समस्‍या उत्‍पन्‍न होती है।

उम्र बढ़ने के साथ महिलाओं ये समस्‍या आम है।

समुद्री नमक के बजाय आयोडीनयुक्त नमक का चयन करें।

थायरॉइड को स्‍वस्‍थ रखने के लिए व्‍यायाम बहुत जरूरी है।

उम्र बढ़ने के साथ आपका मेटाबॉलिज्‍म स्‍लो हो जाता है। आप एक्‍सरसाइज करें। इससे आपका थायरॉइड हमेशा स्‍वस्‍थ रहेगा।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.