अपने घुटने कभी मत बदलिये 

0 63

50 साल के बाद धीरे धीरे शरीर के जोडों में से लुब्रीकेन्टस एवं केल्शियम बनना कम हो जाता है. जिससे जोडों का दर्द, गैप, केल्शियम की कमी, वगैरा प्रोब्लेम्स सामने आती हैं, जिसके चलते आधुनिक चिकित्सा आपको जोइन्ट रिप्लेसमेंट करने की सलाह देते हैं। तो कई आथिॅक रुप से समृद्ध लोग यह मानते हैं कि हमारे पास तो बहुत पैसे हैं तो घुटना चेंज करवा लेते है.

किंतु क्या आपको पता है जो चीज कुदरत ने हमें जिस रूप में दी है उसे आधुनिक विज्ञान या कोई भी साइंस नही बना सकता, आप कृञिम जोइन्ट फिट करवा कर थोड़े समय २-४ साल तक तो ठीक हो सकते हैं, लेकिन बाद मे आपको बहुत ही तकलीफ होगी. जोइन्ट रिप्लेसमेंट का सटीक  इलाज आज मैं आपको बता रहा हूँ वो आप नोट कर लिजिये, आैर हां ऐसे हजारो जरुरतमंद लोगों तक पहुंचाएं जो रिप्लेसमेंट के लाखों  रुपये खर्च करने मे असमर्थ हैं।

बबूल नाम के वृक्ष को आपने जरुर देखा होगा. यह भारत में हर जगह बिना लगाये ही अपने आप खडा हो जाता है, अगर यह बबूल नाम का वृक्ष अमेरिका या विदेशों में इतनी माञा मे होता तो आज वही लोग इसकी दवाई बनाकर हमसे हजारों रुपये लूटते लेकिन भारत के लोगों को जो चीज मुफ्त में मिलती है उसकी कोई कदर नहीं करता है।

प्रयोग इस प्रकार करना है बबूल के पेड़ पर जो फली (फल) आती है उसको तोड़कर लेकर आयें, यदि आपको सिटी मे नहीं मिल रहे तो किसी गांव में जायें वहां जितने चाहिये उतने मिल जायेगें, उसको सुखाकर पाउडर बना लें आैर सुबह 1 चम्मच की माञा में गुनगुने पानी से खाने के बाद , केवल 2-3 महीने तक सेवन करने से आपके घुटने का दर्द बिल्कुल ठीक हो जायेगा और आपको घुटने  बदलने की जरुरत ही नहीं पडेगी ।

इस मेसेज को हर एक भारतीय एवं हर एक घुटने के दर्द से पिडित व्यक्ति तक पहुंचायें ताकि किसी गरिब के लाखों रुपये बच जायें।

loading...

loading...