सभी खाता धारक ध्यान दें

0 42

सूत्रों के अनुसार इन 2 दिन बैंक बंद रखने के पीछे के कारण और सरकार के द्वारा बैंको को दिए नए आदेश ।

1. अगर आप सोच रहे है कि अपने पास एकत्रित रुपयों को आप अपने परिवार जन और रिश्तेदारों के खातों में डाल देने से आप बच जायेंगे तो गलत सोच रहे है जिन भी खातों में 10000  से कम राशि है अथवा किसी भी खाते में 1 लाख ₹ से अधिक राशि आपके द्वारा डाली जाती है तो उस खाता धारक को उस राशि का विवरण देना आवश्यक होगा की वह राशि कहा से आयी है ऐसे में बैंक अधिकारी के द्वारा जाँच की जा सकती है और गलत पाये जाने पर सजा का प्रावधान भी है।

2. अगर आप अपने 500 और 1000 के नोटों को 100 में बदलवा कर पुनः एकत्रित कर रहे है तो बता दें कि 50दिन बाद या जब नई भारतीय मुद्रा बाजार में आजयेगी उसके बाद 100  के नोट को भी प्रतिबंधित करने का विचार सरकार का चल रहा है ।

3. अगर आप अपने छुपाये रुपयों से ज्वेलरी खरीद रहे है तो बता दे की 8/11/2016 के बाद जिन भी ज्वेलरी शॉप पर 50000 से ऊपर का बिल बनता है उस ज्वेलरी उपभोक्ता को उन रुपयों का हिसाब देना होगा ।

4. आपके खाते में अगर कोई अन्य व्यक्ति आपको कुछ पेसो का लालच देकर आपके खाते में अपने रुपयों को जमा करवाने की बात कहे तो भी सावधान रहें आपको भी उस काले धन अथवा छुपाई गयी राशि में भागीदार मानकर आपके ऊपर भी कार्यवाही हो सकती है ।

5. नए आने वाली भारतीय मुद्रा को भी  आप कहि छुपा कर नही रख पाएंगे इस प्रकार की तकनीकी का उपयोग नयी मुद्रा में किया गया है ।

6. 08/11/2016 के बाद अधिकतर इंटरनेशनल और नेशनल कॉल की की रिकॉर्डिंग करने के लिए सरकार स्वतंत्र है उस कॉल पर की गयी रुपयों से जुडी बातो के आधार पर भी आपके ऊपर कार्यवाही की जा सकती है ।

7. 08/11/2016 से लेके 50 दिन तक बैंको में आने वाले खाता धारकों पर सीसीटीवी के जरिये सरकार की स्पेशल टीम की पैनी नजर रहेगी

इसलिए सभी खाता धारकों से निवेदन है कि अपका जो सही पैसा है उसे ही अपने खातों में जमा करवाये या मुद्रा का बदलाव करवाये । क्यों कि सरकार के द्वारा जो ये कार्यवाही हुयी है यह बहुत सोच समझ कर की गयी है आपका काला धन छुपाना या इधर उधर खातों में डालना आपको मुसीबत में डाल सकता है ,
समय है इस कदम पर सरकार का सहयोग करे और कुछ दिन शांति बनाए रखे
बहुत जल्द हमारा भारत भृष्टाचार और काला धन मुक्त होगा

loading...

loading...

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.