सिर भारी, लगातार गुस्सा या किसी चीज के प्रति अरुचि तो आप हैं इस बीमारी के शिकार, वरना बचाएं…

0 1,202

डिप्रेशन का अर्थ है “निराशा”, “उदासी” या “डिप्रेशन” डिप्रेशन एक बहुत ही आम बीमारी है। तन और मन से स्वस्थ और प्रसन्न दिखने वाले लोग भी अवसाद के शिकार होते देखे जा रहे हैं। इंग्लैंड-अमेरिका जैसे देशों में 8-9 साल के बच्चे भी अक्सर डिप्रेशन में देखे जाते हैं। लगातार भागदौड़ भरी जिंदगी में इंसान लगातार एक तरह का तनाव महसूस करता है। लगातार अत्यधिक चिंता, बेचैनी, डिप्रेशन, अनिद्रा आदि से डिप्रेशन का जन्म होता है। स्वभाव से अधिक संवेदनशील व्यक्ति इस रोग के शीघ्र शिकार होते हैं।

जब किसी व्यक्ति के जीवन में कोई दुखद स्थिति आती है, तो उस स्थिति के कारण व्यक्ति गहन उदासी या अवसाद में डूब जाता है। किसी प्रियजन की मृत्यु, व्यवसाय में भारी नुकसान, प्यार में असफलता, गंभीर-शारीरिक बीमारी, परीक्षा में असफलता, दुर्घटना या कोई अन्य कारण जब मन में बहुत उदासी या निराशा हो और जब यह निराशा लंबे समय तक बनी रहे समय की अवधि में, एक व्यक्ति अवसाद से ग्रस्त है। अक्सर इस अवस्था में पीरियड्स बार-बार आते रहते हैं। अवसाद के शिकार व्यक्ति के जीवन में अवसाद, उदासीनता, निराशा, क्रोध, उत्साह की कमी, योग्यता की कमी, बेकार की भावना, अत्यधिक चिंता, शक्की स्वभाव, आत्मविश्वास की कमी आदि लक्षण देखे जाते हैं।

डिप्रेशन व्यक्ति के मन और स्थिति दोनों में अपनी जगह रखता है। कभी-कभी यह स्थिति होती है जो अवसाद का कारण बनती है और कभी-कभी कुछ व्यक्तियों के दिमाग की संरचना या जीन होते हैं जो उन्हें सामान्य परिस्थितियों में भी उदास महसूस कराते हैं। अक्सर माता-पिता के कुछ गुस्सैल स्वभाव के कारण संतान में यह रोग देखा जाता है। अवसाद शक्तिहीनता का अनुभव है। उदासीनता, निराशा, उत्साह की कमी आदि लक्षण नपुंसकता के परिणाम होते हैं। कमजोर दिमाग वाले व्यक्तियों में अवसाद अधिक आम है, और स्पष्ट रूप से प्रतिकूल बाहरी कारकों के बावजूद मजबूत दिमाग वाले व्यक्तियों में अवसाद दुर्लभ है। ऐसा होने का कारण यह है कि एक ईमानदार व्यक्ति को जीवन शक्ति का खिंचाव अनुभव नहीं होता। इसलिए जीवन शक्ति की कमी के कारण अवसाद का अनुभव उनके जीवन में नहीं हो पाता।

मनोवैज्ञानिक दवा के साथ-साथ मनोविश्लेषण, परामर्श आदि के माध्यम से अवसाद का इलाज करते हैं। लेकिन आयुर्वेद में डिप्रेशन के कई इलाज मौजूद हैं और लंबे समय तक इन दवाओं को जारी रखने में कोई बुराई नहीं है।

सबसे पहले मन को लोहे की तरह मजबूत बनाओ। परिस्थितियाँ हमेशा बदलती रहती हैं और कोई भी स्थिति स्थायी नहीं होती। इस श्लोक को जीने से किसी भी प्रकार के कष्ट का सामना करने का नैतिक साहस मिलता है। जीवन में संतोष को स्थान दें और गलत चिंता न करें। हमेशा सकारात्मक रवैया अपनाएं और जीवन में हंसी को प्राथमिकता दें। दिमाग को हमेशा सक्रिय रखें। टी.वी. ऐसे शो देखने की आदत डालें जो आपको हंसाते हों।

इसके अलावा आयुर्वेद में प्राणायाम और ध्यान को डिप्रेशन के लिए सबसे बेहतर माना गया है। प्रतिदिन 20-25 मिनट अनुलोम-विलोम प्राणायाम और आधा घंटा ध्यान-ध्यान करें, ऐसा करने से आप अपने विचारों पर बहुत जल्दी काबू पा सकेंगे। इसके अलावा आयुर्वेद में “शिरोधारा उपचार” अवसाद के रोगियों के लिए बहुत अच्छे परिणाम देता है।

शिरोधारा में मस्तिष्क को शांत करने वाले औषधीय तेल या घी को सिर पर डाला जाता है। तो रक्त संचार भी बढ़ता है और दिमाग को शांति का अनुभव होता है। यह उपचार “अनिद्रा” के रोगियों में बहुत अच्छे परिणाम देता है। इसके अलावा आयुर्वेद में ब्राह्मिवती, मथार्सायण, सारस्वत चूर्ण जैसी औषधियों का सेवन करने का विधान है, जिन्हें यदि किसी विशेषज्ञ की सलाह के अनुसार लिया जाए तो निश्चित रूप से लाभ होता है। ऊपर बताए गए योग और औषधि से नि:संदेह डिप्रेशन की बीमारी से निजात मिल सकती है।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply