Vastu Shastra : ऑफिस और घर के इंटीरियर में रखें ये सावधानी, नहीं तो घर में होगी नकारात्मक ऊर्जा का राज

0 1,131

सकारात्मकता से भरपूर कार्यालय अपने कर्मचारियों के मनोबल और ऊर्जा को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यदि कार्यालय के भीतरी भाग में सकारात्मक ऊर्जा प्रवाहित होती है, तो यह व्यवसाय में वृद्धि और आय में वृद्धि के द्वार खोलता है। वास्तु के अनुकूल ऑफिस इंटीरियर डिजाइन के बारे में एक आम गलत धारणा यह है कि यह बहुत महंगा होता है। उल्टा के कार्यालय के इंटीरियर में सकारात्मकता जोड़ने के लिए वास्तु नियम सरल और सूक्ष्म हैं।

वास्तु शास्त्र के सिद्धांत ऑफिस स्पेस में सकारात्मक ऊर्जा बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करते हैं, इसलिए यहां हम बिजनेस बढ़ाने वाले ऑफिस इंटीरियर के लिए लागू करने में आसान कुछ वास्तु टिप्स पर चर्चा करेंगे। सबसे पहले बात करते हैं ऑफिस के रिसेप्शन एरिया की। रिसेप्शन किसी भी कार्यालय का चेहरा होता है, इसलिए इसमें आगंतुकों और कर्मचारियों के लिए सकारात्मक वाइब होना चाहिए। उसके लिए रिसेप्शन काउंटर को हमेशा पूर्व या उत्तर-पूर्व दिशा में रखें। कार्यालय के नाम का बोर्ड दक्षिण में रखते समय। दूसरे, आपके रिसेप्शनिस्ट को उत्तर या पूर्व की ओर मुख करके बैठना चाहिए।

एक और अहम बात। स्वागत समारोह में फूल ताजी ऊर्जा प्रवाहित करते हैं। इसके लिए रिसेप्शन पर ताजा लैवेंडर या हरे जेड फूलों का एक गुच्छा व्यवस्थित करें। यह समृद्धि लाता है। यदि आप रिसेप्शन में हरियाली जोड़ना चाहते हैं, तो स्नेक प्लांट्स, सुपारी के पेड़, तिपतिया घास के पौधे और भाग्यशाली बांस के साथ क्षेत्र को जीवंत बना दें। वास्तु शास्त्र के अनुसार रिसेप्शन में ऐसे पौधे रखने से बिजनेस में किस्मत आती है और धन में वृद्धि होती है। अब बात करते हैं ऑफिस की लाइटिंग की। इंटीरियर को इस तरह डिजाइन करें कि ऑफिस को ज्यादा धूप मिले। सूर्य का प्रकाश सकारात्मकता से भरा होता है, जिससे ऊर्जा स्वाभाविक रूप से आपके कार्यक्षेत्र में प्रवाहित होती है। दूसरा, सुनिश्चित करें कि कार्यालय के दक्षिणी भाग में शेष क्षेत्र की तुलना में अधिक प्रकाश हो। इससे कर्मचारियों की उत्पादकता में वृद्धि होती है तथा सम्पूर्ण कार्य क्षेत्र में सुखद वातावरण का निर्माण होता है। कार्यालय आंतरिक प्रकाश गर्म और सुखदायक होना चाहिए। इसके चलते कर्मचारियों के कंप्यूटर स्क्रीन पर चकाचौंध नहीं होनी चाहिए।

आइए यह भी देखें कि वास्तु शास्त्र पेंटिंग और रंगों के बारे में क्या बताता है। वास्तु कार्यालय की जगहों को पेंट करने के लिए हल्के रंगों की सिफारिश करता है क्योंकि यह कार्यालय के कमरों को बड़ा महसूस कराता है और सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह में मदद करता है। जब स्टार्टअप्स कंपनी की बात आती है, तो कार्यालय को पेंट करने के लिए हरे रंग की तुलना कोई नहीं करता है। हरा रंग और उसके रंग नए विचार उत्पन्न करते हैं और आय में वृद्धि करते हैं। आज बड़ी-बड़ी कॉरपोरेट कंपनियों के दफ्तरों में गेम जोन और चिल जोन होना बहुत आम बात है, ताकि कर्मचारी आराम कर सकें। नीला रंग और उसके रंग इस क्षेत्र के लिए उत्तम विकल्प हैं। क्‍योंकि नीला रंग दिमाग से तनाव दूर करता है और शांति प्रदान करता है। एक और महत्वपूर्ण बात यह है कि कार्यालय में छत का रंग दीवारों की तुलना में हल्का रखें। वास्तु के अनुसार ऑफिस में काले, भूरे और गहरे नीले रंग का होना सख्त वर्जित है।

आजकल दफ्तरों में कलाकृतियां और पेंटिंग्स लगाने का चलन है इसलिए ऑफिस में उत्तर दिशा में हरियाली और धूप वाली पेंटिंग्स होना अनिवार्य है। इससे कर्मचारियों की रचनात्मकता और उत्पादकता बढ़ती है। कार्यालय की उत्तर-पूर्व दिशा की दीवारों पर फ़िरोज़ा और समुद्र के नीले रंग की पेंटिंग लगाने से भी व्यावसायिक आय में वृद्धि होती है। दूसरा, समुद्र और शंख के चित्र या चित्र होने से ग्राहक और अंतर-टीम संबंध भी बेहतर होते हैं।

वास्तु में दर्पण को एक महत्वपूर्ण ऊर्जा तत्व माना जाता है। ऑफिस में आयताकार या चौकोर आकार के दर्पण ही रखें। हो सके तो गोल या अंडाकार दर्पण से बचें। कैश इनकम बढ़ाने के लिए ऑफिस के मालिक कैश लॉकर में आईना रखते हैं। हालांकि, शीशे पर कोई दाग या दरार नहीं होनी चाहिए। दूसरा, कर्मचारियों को अपने डेस्क पर शीशा नहीं रखना चाहिए। नहीं तो उन पर काम का बोझ और तनाव दोनों बढ़ सकते हैं। शायद ही कोई ऑफिस ऐसा हो जहां भगवान की मूर्ति न हो। भगवान की मूर्ति रखने के लिए ऑफिस की उत्तर दिशा का चुनाव करें। उस स्थान को प्रतिदिन साफ ​​करें और नियमित पूजा-आरती करें। सफेद गणपति की मूर्ति और लक्ष्मी की बैठी हुई मूर्ति व्यापार के लिए बहुत शुभ होती है। यह समृद्धि लाता है।

कार्यालय में विभिन्न उपकरण होने चाहिए। जेनरेटर, इलेक्ट्रिकल मशीन, प्रिंटर, स्कैनर और सर्वर रखने के लिए दक्षिण पूर्व सबसे अच्छी दिशा है। पेंट्री में ओवन और कॉफी मशीन जैसे बिजली के उपकरणों को रखने पर भी यही नियम लागू होता है। अंत में आइए जानते हैं कि वास्तु शास्त्र के अनुसार ऑफिस में क्या-क्या वर्जित हैं। पहली बात तो यह कि ऑफिस में डेस्क पर सोने से आसपास की सकारात्मक ऊर्जा में बाधा आ सकती है। इसी तरह, अपने कर्मचारियों को अपने डेस्क को साफ रखने के लिए प्रोत्साहित करें, न कि अव्यवस्थित।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply