फायदेमंद है सौंफ

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

सौंफ में कई औषधीय गुण मौजूद होते हैं, जिनका सेवन करने से स्वास्थ्य को फायदा होता है। सौंफ हर उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद होती है। सौंफ प्रतिदिन घर में प्रयुक्त किए जाने वाले मसालों में से एक है। इसका नियमित उपयोग सेहत के लिए लाभदायक है। प्राय: गर्मियों की सब्जिय़ों में इसका उपयोग किया जाता है क्योंकि इसकी तासीर ठंडी है, पर यह जठराग्नि को मंद नहीं करती। सौंफ त्रिदोषनाशक है। सौंफ में विटामिन सी की जबर्दस्त मात्रा है और इसमें आवश्यक खनिज भी हैं जैसे कैल्शियम, सोडियम, फॉस्फोरस, आयरन और पोटेशियम। चमत्कारी सौंफ के सेहत के लिए फायदे कुछ इस प्रकार हैं –

पेट की समस्याओं के लिए सौंफ बहुत फायदेमंद होती है। सौंफ खाने से पेट और कब्ज की शिकायत नहीं होती। सौंफ को मिश्री या चीनी के साथ पीसकर चूर्ण बना लीजिए, रात को सोते वक्त लगभग 5 ग्राम चूर्ण को हल्के गुनगुने पानी के साथ सेवन कीजिए। पेट की समस्या नहीं होगी व गैस व कब्ज दूर होगा। सौंफ आपकी याददाश्त बढ़ाती है, निगाह तेज करती है, खाँसी भगाती है और कोलेस्ट्रॉल स्तर को नियंत्रण में रखती है। अगर आप चाहते हैं कि आपका कोलेस्ट्रॉल स्तर न बढ़े तो खाने के लगभग 30 मिनट बाद एक चम्मच सौंफ खा लें। सूखी, रोस्टेड और कच्ची सौंफ को बराबर मात्रा में मिला लें। इसे खाने के बाद खाएँ। इससे पाचनक्रिया बेहतर रहेगी और आप हल्का महसूस करेंगे।

अगर आप एक चम्मच सौंफ 2 कप पानी में उबाल लें और इस मिश्रण को दिन में दो-तीन बार लें तो आपकी आँतें अच्छा महसूस करेंगी और खाँसी भी लापता हो जाएगी। सौंफ की पत्तियों में खाँसी संबंधी परेशानियाँ जैसे दमा व ब्रोन्काइटिस को दूर रखने की भी क्षमता होती है। सौंफ को अंजीर के साथ खाने से और खाँसी व ब्रोन्काइटिस ठीक होती है। साथ ही मासिक चक्र को नियमित बनाने के लिए सौंफ को गुड़ के साथ खाएँ।

भोजन के बाद रोजाना 30 मिनट बाद सौंफ लेने से कॉलेस्ट्रोल काबू में रहता है।

5-6 ग्राम सौंफ लेने से लीवर और आँखों की ज्योति ठीक रहती है। अपच संबंधी विकारों में सौंफ बेहद उपयोगी है।

बिना तेल के तवे पर तली हुई सौंफ और बिना तली सौंफ के मिक्चर से अपच के मामले में बहुत लाभ होता है।

दो कप पानी में उबली हुई एक चम्मच सौंफ को दो या तीन बार लेने से अपच और कफ की समस्या समाप्त होती है।

यह शिशुओं के पेट और उनके पेट के अफारे को दूर करने में बहुत उपयोगी है।

सौंफ के पावडर को शकर के साथ बराबर मिलाकर लेने से हाथों और पैरों की जलन दूर होती है।

गर्मियों में पीएं सौंफ की चाय

गर्मियों में गरम चाय पी कर पेट में जलन होने लगती है, पर चाय के शौकिन करें तो क्या करे? तो क्यों ना चाय के समय त्रिदोष नाशक सौंफ की ताजगी भरी चाय हो जाए। एक कप पानी में 2 चम्मच सौंफ और थोड़ी सी इलायची कूटकर मिलाये और उबाल लें। स्वादानुसार शकर डालें। अब छान कर इस में स्वाद और सजावट के लिए थोड़ी सी पुदीना की पत्ती डालें। लीजिये तैयार है सौंफ की चाय। यह गर्मी से राहत देती है। पाचन सम्बन्धी सभी परेशानियों से राहत देती है। साथ ही दिमाग और आँखों के लिए भी अच्छी है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

loading...
loading...

Leave a Reply