द्रौपदी के इस वरदान से वह अपना कौमार्य वापस पा लेती थी – रोचक बातें

621

जैसे की हम सब जानते है की द्रौपदी ने कभी चुप रहने में विश्वास नहीं किया था, द्रौपदी ने धृतराष्ट्र से न्याय मांगा पर कुछ नहीं हुआ, बाद में द्रोणाचार्य, कृपाचार्य और उनके पतियों जैसे महान योद्धाओं की भी निंदा की जो चीर-हरण के दौरान उसे अपमान से नहीं बचा पाए थे.

आपको बतादें कि द्रौपदी युवा रूप में पैदा हुई थी, इसलिए उनका बचपन नहीं था, एक महत्व की बात बतादें की महाभारत के अनुसार द्रौपदी का जन्म महाराज द्रुपद के यहाँ यज्ञकुण्ड से हुआ था.

ऐसा भी माना जाता है की आज के दक्षिण भारत में द्रौपदी काली का रूप थीं, जो अभिमानी कौरवों का नाश करने के लिए कृष्ण की सहायता हेतु द्रौपदी के रूप में आईं थीं.

 Draupadi

कुछ किवदंतियों के अनुसार पांडवों के नियम के मुताबिक जब भी कोई एक भाई द्रौपदी के साथ एकांत में रहेगा तो दूसरा भाई कक्ष मे प्रवेश नहीं करेगा, इसके लिए नियम था कि द्रौपदी के साथ वाला पांडव की पादुकाएं कक्ष के बाहर रहेंगी जो अन्य भाईयों को सूचित करेंगी की कोई एक भाई कक्ष में मौजूद है.

एक बार की बात है जब द्रौपदी जब युधिष्ठिर के साथ कक्ष में थीं तभी एक कुत्ता युधिष्ठिर की पादुकाएं ले गया. कहते हैं कि द्रौपदी को वरदान था कि वह अपना कौमार्य वापस पा लेगी, द्रौपदी एक पति के बाद दूसरे पति के पास जाने से पहले अग्नि स्नान करती थी और उसे कौमार्य वापस मिल जाता था.

 Draupadi

एक बार जब भीम-हिडम्बा (राक्षसनी जो द्रौपदी के अलावा भीम की दूसरी पत्नी थी) का पुत्र घटोत्कच्छ अपने पिता के राज्य में भ्रमण करने आया था तो उसने अपनी मां हिडम्बा के कहे अनुसार द्रौपदी को सम्मान नहीं दिया और द्रौपदी ने उसे कम आयु होने का श्राप दे दिया था.

तो यह थी वो बातें जिससे यह पता चलता है की द्रौपदी को वरदान था कि वह अपना कौमार्य वापस पा सकती है.

4 आसान से सवालों के जवाब देकर जीतें 400 रु– यहां क्लिक करें

जिओ Sale :- 
Jio 2 Smartphone  मोबाइल को 499 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे
JIO Mini SmartWatch को 199 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे
JioFi M2 को 349 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे

Jio Fitness Tracker को 99 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे

चाणक्य निति द्वारा चाणक्य ने बताई है चरित्रहीन औरत की यह पहचान

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

loading...

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.