मुस्लिम सुवर को हराम क्यों मानते हैं नाम लेने से 40 दिन दुआ क़ुबूल नही होती है या 40 दिन ज़वान नापाक रहती है

545

 दुआ क़ुबूल क्या आपने यह बात सोची है कि आखिर मुस्लिम लोग सुवर से इतना दूर क्यों भागते हैं और इसे हराम क्यों मानते हैं और इसे देखना तक भी पसंद नहीं करते तो आज हम आपको बताने वाले हैं इसके कुछ तथ्य जिसे जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे मुस्लिम जाति के अनुसार उनके लिए सूअर को देखना तक हराम है और इसे यदि कोई व्यक्ति कहता है तो वह अपवित्र हो जाता है इसलिए सूअर का नाम तक लेने में कतराते हैं ।

Why do Muslims consider suvar as haram, 40 days of blessing is not acceptable or 40 days of life is bad?

loading...

40 दिन दुआ क़ुबूल नही होती है या 40 दिन ज़वान नापाक रहती है इसके पीछे वैज्ञानिक तर्क

Why do Muslims consider suvar as haram, 40 days of blessing is not acceptable or 40 days of life is bad?

विज्ञान के अनुसार सूअर एकमात्र ऐसा प्राणी है जिसे पसीना नहीं आता और जिसके कारण उसके शरीर से टॉक्सिन बाहर नहीं निकल पाते और उसका शरीर काफी जहरीला होता है यदि कोई व्यक्ति इसका मांस खाता है तो उसका शरीर भी जहरीला हो जाता है और कई प्रकार की बीमारियां उसके शरीर को हो जाती हैं इसलिए सूअर का मांस नहीं खाना चाहिए यानी कि कहीं ना कहीं मुस्लिम इस वैज्ञानिक तर्क को जानते हैं कि सूअर का सेवन इंसान के शरीर के लिए नुकसानदायक है इसलिए इस्लाम में भी इसे खाने के लिए मना किया गया है मुसलमानों को अल्लाह ने उत्तम दर्जे का विज्ञान दिया है, जिन बातो को आज विज्ञान हमे सिखा रहा है, मुसलमान उन्हें बहुत पहले से ही जानते हैं, क्यूंकि आज के वैज्ञानिक दौर में हम कह सकते हैं के कौन सी चीज हमारे लिए अच्छी है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.