अपने हर एक रिश्ते में प्यार बढ़ाने के लिए और बुरी आदते, छुड़ाने के लिए इन विचारों का करें इस्तेमाल

1,588

कई बार सबके सामने पति और पत्नी प्यार के इजहार के लिए आई लव यू या कैसी हो डार्लिंग जैसी बात बोलने से संकोच कर सकते हैं , लेकिन रिश्तों की बॉन्डिंग के लिए और अपनापन जताने के लिए इनके अलावा भी कई पावरफुल शब्द हैं , जिनका इस्तेमाल हर पति पत्नी को करते रहना चाहिए गलती सबसे होती है . साथ रहते रहते किसी बात पर परस्पर नाराजगी भी स्वाभाविक है.ऐसी स्थिति में जब दोनों पक्ष ईगो की वजह से अपने अपने रूख पर अड़ जाते हैं , तो बात बढ़ जादी है अगर आपसे पलती हुई है या आपके किसी काम या बात के कारण पार्टनर नाराज है , तो आगे बढ़ कर नरम स्वर में आई एम सॉरी बोल दें.यकीन मानिए पार्टनर मोम की तरह पिघलकर मुस्कुरा देगा .

चाहें तो थोड़ा ड्रामैटिक भी हो सकते हैं . सहमे हुए से , दोनों कान पकड़ कर मुस्कुराते हुए उनकी आंखों में झांककर कहें , आई एम सॉरी . न रूठी हुई पत्नी / पति गले से लग जाएगी / जाएगा। इससे रिश्तों में रूखापन नहीं आता.कभी कभी आप सही हों , तो भी डेडलॉक खत्म करने के लिए सॉरी कहने में कोई बुराई नहीं है .मैं हूं ना – जब भी पार्टनर किसी परेशानी में हो , आपको उसके साथ खड़े रहकर कहना चाहिए , घबराओ मत मैं हूं ना.कई बार व्यापार में नुकसाण लगने , बॉस से पंगा होने बीयत खराब होने , किसी से झगड़ा हो जाने या फिर किसी प्रिय व्यक्ति की मृत्यु के कारण पति या पत्नी का मूड खराब हो जाता है ,

और वह दुखी रहता है.ऐसे में अगर पार्टनर तटस्थ रहे , कोई प्रतिक्रिया न दे और अपनी ही दुनिया में रमा रहे , तो रिश्तों में फर्क आ जाता है.जीवनसाथी के और पत्नी के विचार अलग अलग होते हैं . ऐसे में एक दूसरे पर अपने विचार थोपने , अड़ने और बहस करने से मतभेद हो जाते हैं और बात बढ़ जाए तोझगडाभी हो जाता है . जब भी कभी ऐसा हो तो जिद करने , एक दूसरे पर आरोप – प्रत्यारोप लगाने या उत्तेजित स्वर में बात करने की बजाय ठंडे दिमाग से काम लें और पार्टनर से कहें , आओ बैठ कर बात करते हैं और विचार विमर्श करके कोई रास्ता निकाल लेते हैं .

ऐसा कहने पर पार्टनर को लगेगा कि आप उसकी बात को भी तवज्जो देने तैयार हैं . फिर कोई भी मामला उलझेगा नहीं क्योंकि कुछ हद तक वह भी आपकी बात मानने को तैयार हो जाएगा और बीच का रास्ता निकल आएगा . दांपत्य संबंधों का टॉनिक है संवाद – हम मित्रों , पड़ोसियों , रिश्तेदारों , बिजनेस क्लाइंट्स , कलीग्स और यहां तक कि अनजान लोगों से भी सार्थक संवाद करने और शिष्टाचार अपनाने की कोशिश करते हैं , लेकिन जब बात पति पत्नी के रिश्तों की आती है , तो हम हर चीज को टैकेन फॉर ग्रांटेड लेते आभार जताना , सराहना करना , सहानुभूति दिखाना आदि छोटी छोटी बातें भूल जाते हैं . इससे रिश्तों में जल्दी ही शुष्कता आने लगती है और वो दरकने लगते हैं . जबकि संवाद बनाए रखकर छोटी छोटी बातों का ध्यान रखकर और पार्टनर की परवाह करके हम इस रिश्ते को पोषण का टॉनिक दे सकते हैं

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.