क्रिकेट में ये एक ऐसा कीर्तिमान है जिसे कोई नहीं तोड़ सकता लेकिन इसका जवाब केवल समय के पास है

0 1,020

आपका एक बार फिर स्वागत है हमारे चैनल पर। आज हम आपको बताएँगे सर डॉन ब्रेडमेन के बारे मे जो 100 की औसत से मात्र 4 रन से चूक गए।

डाक विभाग में नौकरी का मौका, 10वीं पास के लिए 2707 पदों पर बंपर भर्तियां
नेशनल हेल्थ मिशन (NHM), उत्तर प्रदेश में निकली 1400+ वैकेंसी, कोई आवेदन फीस नहीं
दसवीं पास वालों के लिए CISF कांस्टेबल और ट्रेडमैन में आई बम्पर भर्ती – देखें पूरी जानकारी
12th पास दिल्ली पुलिस नौकरियां 2019: 554 हेड कांस्टेबल पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन करें
DSSSB में निकली फायरमेन पदों पर 10वीं  पास लोगो के लिए दिल्ली में नौकरी – Apply Online for 706 Posts

This is a record that no one can break but the answer is only with time

सर डॉन ब्रेडमेन के बारे मे एक बात कही जाती है कि उनका औसत 99.94 है जो कि टेस्ट मैच के इतिहास मे अब तक का सर्वोच्च औसत है। ये भी कहा जाता है ये एक ऐसा कीर्तिमान है जिसे कोई नहीं तोड़ सकता लेकिन इसका जवाब केवल समय के पास है। क्यूंकी हर कीर्तिमान कभी न कभी टूटता है बस उसका एक निश्चित समय होता है।

This is a record that no one can break but the answer is only with time

खैर हम आपको बताते हैं कि उनके आखिरी मैच मे क्या हुआ और वो 100 का औसत पाने से कैसे चूक गए। उनका आखिरी मैच इंग्लैंड के खिलाफ 18 अगस्त 1948 को खेला गया था। उस मैच मे उनको इंग्लैंड के स्पिनर एरिक होलीज़ ने शून्य पर बोल्ड कर दिया था। इस प्रकार ब्रेडमेन 100 कि औसत पाने से चूक गए। अपने आखिरी मैच मे ब्रेडमेन को 100 कि औसत पाने के लिए सिर्फ 4 रन बनाने थे लेकिन एरिक ने उन्हे शून्य पर बोल्ड करके उन्हे ऐसा करने से रोक दिया।

This is a record that no one can break but the answer is only with time

लेकिन ऐसा नहीं है कि सिर्फ एरिक कि वजह से ही ब्रेडमेन ऐसा नहीं कर पाये। एक शख्स और है जिसे इस बात का पछतावा है कि उसकी वजह से ब्रेडमेन 100 की औसत नहीं बना पाये और वो है उनके ही टीम के साथी बल्लेबाज नील हार्वे। अपने आखिरी मैच के ठीक पहले वाले मैच मे ब्रेडमेन 173 रन पर बैटिंग कर रहे थे और उनके साथ नील हार्वे भी बैटिंग कर रहे थे। उनकी टीम को जीतने के लिए 4 रन बनाने थे ।

This is a record that no one can break but the answer is only with time

ब्रेडमेन नॉन स्ट्राइकिंग छोर पर थे और हार्वे ने चौका लगा दिया। ऑस्ट्रेलिया मैच जीत गया और ब्रेडमेन 173 पर नाबाद रह गए। अगले मैच मे ब्रेडमेन शून्य पर आउट हो गए। इस बात के लिए नील हार्वे अपने आप को बहुत ही ज्यादा दोषी मानते हैं।

नोट- अपने विचार और सुझाव हमे कमेंट मे बताए।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply