स्त्री फिल्म के इस हीरो की असल जिन्दगी की प्रेम कहानी किसी फिल्म से बिलकुल कम नहीं है आप खुद कहेंगे

545

आज हम आपको बताएँगे कि किस भारतीय अभिनेता ने अपनी प्रेम कहानी को फिल्मी बनाया।  भारतीय सिनेमा मे हर रोज लाखो युवा अपनी तमन्ना लेकर आते हैं कि वो भी एक सफल अभिनेता बनेंगे लेकिन उन सब के सपने पूरे नहीं होते। कहीं न कहीं वो फ़ेल हो जाते हैं।

डाक विभाग में नौकरी का मौका, 10वीं पास के लिए 2707 पदों पर बंपर भर्तियां
नेशनल हेल्थ मिशन (NHM), उत्तर प्रदेश में निकली 1400+ वैकेंसी, कोई आवेदन फीस नहीं
दसवीं पास वालों के लिए CISF कांस्टेबल और ट्रेडमैन में आई बम्पर भर्ती – देखें पूरी जानकारी
12th पास दिल्ली पुलिस नौकरियां 2019: 554 हेड कांस्टेबल पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन करें
DSSSB में निकली फायरमेन पदों पर 10वीं  पास लोगो के लिए दिल्ली में नौकरी – Apply Online for 706 Posts

The real life love story of this hero of a female film is not less than any film, you will say yourself

अब फर्क ये है कि कुछ उन गलतियों से सबक लेकर आगे बढ़ते हैं और कुछ बिखर जाते हैं। आज हम आपको एक ऐसे अभिनेता के बारे मे बताने जा रहे है जो न केवल सफल हुआ बल्कि एक मुकाम हासिल किया।

The real life love story of this hero of a female film is not less than any film, you will say yourself

चलिये आपको पहेली न बुझाते हुये उसका नाम बता देते हैं। हम बात कर रहे हैं पंकज त्रिपाठी की जिन्होने अपने अभिनय का लोहा मनवा लिया इस भारतीय सिनेमा मे।

loading...

The real life love story of this hero of a female film is not less than any film, you will say yourself

वैसे तो पंकज जी ने साल 2004 मे भारतीय सिनेमा मे अपना पहला शॉट दिया लें उनको लोगो ने पहचाना 2012 मे आई फिल्म “गैंग्स ऑफ वासेपुर” मे जिसमे उन्हे एक अलग पहचान मिली। उसके बाद इन्होने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और बुलंदी के शिखर पर आगे बढ़ते चले गए।

The real life love story of this hero of a female film is not less than any film, you will say yourself

लेकिन क्या आपको पता है उनके इस संघर्ष मे उनका साथ किसने दिया? उनकी पत्नी मृदुला जी ने। पेशे से एक अध्यापिका होते हुये भी उन्होने अपना घर भी संभाला और पंकज को उनके सपने जीने की आज़ादी दी। पंकज जी आज भी कहते हैं कि मेरे लिए आज भी मृदुला ही “मैन ऑफ हाउस” हैं।

The real life love story of this hero of a female film is not less than any film, you will say yourself

पंकज कि प्रेम कहानी भी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है। वो बताते है कि मैंने उन्हे 1993 मे पहली बार देखा था और उसी वक़्त मन बना लिया था कि इस लड़की के साथ ही अपनी पूरी ज़िंदगी बिताऊँगा। उस समय वो अपनी बहन के तिलक मे गए थे और उसी वक़्त उन्होने मृदुला जी को देखा और मृदुला जी ने भी पलट कर उन्हे देखा। बस फिर क्या था, पहली नज़र मे इश्क़ हो गया पंकज जी को और उन्होने ठान लिया।

The real life love story of this hero of a female film is not less than any film, you will say yourself

परिवार वाले इस विवाह को राजी न हुये और काफी मुश्किले उठानी पड़ी लेकिन पंकज जी अपने निश्चय से पीछे नहीं हटे और साल 2004 मे उन्होने शादी की। उनकी एक बेटी भी है। पंकज जी बताते है कि मृदुला मेरी साले की बहन हैं और ये बात बहुत ही कम लोग जानते हैं।

The real life love story of this hero of a female film is not less than any film, you will say yourself

इसलिए इस शादी के लिए मुझे बहुत ही पापड़ बेलने पड़े क्यूंकी ब्राह्मण मे अपनी बहन के घर मे अपनी शादी करना वर्जित होता है। पंकज ये कहते हुये “अब मै अपने ही साले का साला हूँ।” हंसने लगे।

नोट- अपने विचार और सुझाव हमे कमेंट मे बताए।

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.