ऐसा आश्चर्यजनक पत्थर जिसे भगवान श्रीकृष्ण का रहस्यमयी पत्थर भी कहते हैं

1,200

विज्ञान चाहे कितनी ही प्रगति कर ले लेकिन कुछ पहेलियां आज भी ऐसी है जिन्हें विज्ञान आज भी नहीं सुलझा पाया है। ऐसा ही एक आश्चर्य भारत के एक कस्बे महाबलीपुरम में है। जिसको देखकर लोग आश्चर्य से मुंह में अंगुली दबा लेते है।

Seven elephants could not even shake this stone, it was dropped from heaven, on earth

महाबलीपुरम में कृष्णा बटन के नाम से एक विशालकाय पत्थर है जो ग्रेविटि के सिद्धान्तों के विपरीत एक छोटी सी जगह पर टिका हुआ है। इस विशाल पत्थर को भगवान श्रीकृष्ण का रहस्यमयी पत्थर भी कहा जाता है।

भगवान कृष्णा से संबंध

Motivational Learn from Lord Shri Krishna These 5 Precious Things

loading...

यह विशाल पत्थर चेन्नई के कस्बे महाबलीपुरम में स्थित है। यह विशाल पत्थर कृष्णा बटर बॉल के नाम से प्रसिद्ध है। यह विशाल पत्थर करीब 20 फिट उॅचा और 5 मीटर चौडा है। यह माना जाता है कि यह विशाल पत्थर भगवान श्रीकृष्ण के प्रिय भोजन माखन का एक टुकडा है जो स्वर्ग से गिरा है। यह विशाल पत्थर 45 डिग्री के कोण पर एक पहाडी ढलान पर टिका हुआ है और इस स्थिती में होने पर लुढक नहीं रहा यह आश्चर्य का विषय है।

वैज्ञानिक भी है हैरान

Seven elephants could not even shake this stone, it was dropped from heaven, on earth

इस पत्थर का वजन करीब 250 टन है। यह विशाल पत्थर एक पहाडी पर पिछले सैंकडों सालों से इस ढलान वाली पहाडी पर टिका हुआ है। यह विशाल पत्थर जिसे कृष्णा की बटर बॉल कहा जाता है गुरूत्वाकर्षण के सिंद्धान्तों के विपरित खडा है। हमेशा लोगों को ऐसा लगता है कि यह पत्थर लुढककर पहाडी से नीचे गिर जायेगा। लेकिन ऐसा कभी नहीं होता और यह पहाडी आज भी उसी तरह से पहाडी पर टिका हुआ है। वैज्ञानिक इस बात पर कई तरह के तर्क देते है लेकिन असल कारण क्या है इसका जवाब वे भी नहीं दे पाते है।

इस अंग्रेज ने भी की थी कोशिश 

Seven elephants could not even shake this stone, it was dropped from heaven, on earth

इस पत्थर को कई बार इस पहाडी से हटाने की कोशीश की जा चुकी है लेकिन हर कोशीश नाकाम हुयी है। किसी समय दक्षिण भारत पर पल्लव राजाओं का शासन हुआ करता था। उस समय पल्लव राजा ने भी इस पत्थर को हटाने की कोशीश की गयी। लेकिन कई कोशीशों के बाद भी इस पत्थर को हटाना तो दूर यह पत्थर हिला नहीं पाया। उसके बाद अंग्रेजों के शासन के समय में 1908 में मद्रास गर्वनर आर्थर ने भी इसको हटाने की भरपूर कोशिश की। गर्वनर आर्थर पत्थर को हटाने के लिये 7 हाथियों को लगाया लेकिन वे हाथी भी उस पत्थर को हटाना तो दूर हिला भी नहीं पाये।

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.