centered image />

भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है विशाल कोणार्क सूर्य मंदिर- इस वजह से जाते हैं लोग देखने

0 2,032
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

कोणार्क सूर्य मंदिर भारत के ओडिशा के तट पर पुरी से लगभग 35 किलोमीटर दूर उत्तर पूर्व कोणार्क में स्थित है। हिंदू देवता सूर्य को समर्पित यह एक विशाल मंदिर है और भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। इस प्राचीन मंदिर को देखने के लिए भारी संख्या में विदेशी सैलानी भी आते हैं। कोणार्क दो शब्दों कोण और अर्क  से मिलकर बना है। जहां कोण का अर्थ कोना और अर्क का अर्थ सूर्य है।

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

अगर आप बेरोजगार हैं तो यहां पर निकली है इन पदों पर भर्तियां

दसवीं पास लोगों के लिए इस विभाग में मिल रही है बम्पर रेलवे नौकरियां

One of the major tourist destinations of India is the huge Konark Sun Temple - this is why people go to see

दोनों को संयुक्त रूप से मिलाने पर यह सूर्य का कोना यानि कोणार्क कहा जाता है। इस मंदिर को ब्लैक पैगोडा नाम से भी जाना जाता है क्योंकि मंदिर का ऊंचा टॉवर काला दिखायी देता है। कोणार्क के सूर्य मंदिर को यूनेस्को ने 1984 में विश्व धरोहर स्थल के रूप में मान्यता दी है।

कोणार्क सूर्य मंदिर किसने बनवाया


ब्राह्मण मान्यताओं के आधार पर, इस मंदिर का निर्माण 13 वीं शताब्दी में पूर्वी गंगा राजवंश के राजा नरसिम्हदेव प्रथम (1238-1250 CE) द्वारा किया गया था और यह सूर्य देव सूर्य को समर्पित था। पौराणिक कथा के अनुसार, भगवान कृष्ण के पुत्र साम्ब को उनके श्राप से कोढ़ रोग हो गया था।

One of the major tourist destinations of India is the huge Konark Sun Temple - this is why people go to see

सूर्यदेव, जो सभी रोगों के नाशक थे, उन्होंने इनके इस रोग का भी निवारण कर दिया था। तब साम्ब ने सूर्य देव को सम्मानित करने के लिए कोणार्क सूर्य मंदिर को निर्मित किया, क्योंकि भगवान ने उनके कुष्ठ रोग को ठीक कर दिया था। कोणार्क सूर्य मंदिर को UNSECO वर्ल्ड हेरिटेज लिस्ट में भी जोड़ा गया है।

कोणार्क के सूर्य मंदिर का इतिहास

13 वीं शताब्दी के मध्य में निर्मित कोणार्क का सूर्य मंदिर कलात्मक भव्यता और इंजीनियरिंग की निपुणता का एक विशाल संगम है। गंग वंश के महान शासक राजा नरसिम्हदेव प्रथम ने अपने शासनकाल 1243-1255 ई. के दौरान 1200 कारीगरों की मदद से कोणार्क के सूर्य मंदिर का निर्माण कराया था। चूंकि गंग वंश के शासक सूर्य की पूजा करते थे, इसलिए कलिंग शैली में निर्मित इस मन्दिर में सूर्य देवता को रथ के रूप में विराजमान किया गया है तथा पत्थरों को उत्कृष्ट नक्काशी के साथ उकेरा गया है।

One of the major tourist destinations of India is the huge Konark Sun Temple - this is why people go to see

इस मंदिर का निर्माण लाल रंग के बलुआ पत्थरों तथा काले ग्रेनाइट के पत्थरों से हुआ है। पूरे मन्दिर स्थल को बारह जोड़ी चक्रों के साथ सात घोड़ों द्वारा खींचते हुए निर्मित किया गया है, जिसमें सूर्य देव को विराजमान दिखाया गया है। वर्तमान समय में सात घोड़ों में से सिर्फ एक ही घोड़ा बचा हुआ है। आज जो मंदिर मौजूद है वह आंशिक रूप से ब्रिटिश भारत युग की पुरातात्विक टीमों के संरक्षण के कारण बच पाया है।

कोणार्क के सूर्य मंदिर की विशेषता

कोणार्क के सूर्य मंदिर की विशेषता यह है कि इस मंदिर के आधार पर 12 जोड़ी पहिए स्थित हैं। वास्तव में ये पहिये इसलिए अनोखे हैं क्योंकि ये समय भी बताते हैं। इन पहियों की छाया देखकर दिन के सटीक समय का अंदाजा लगाया जा सकता है।

इस मंदिर में प्रत्येक दो पत्थरों के बीच में एक लोहे की चादर लगी हुई है। मंदिर की ऊपरी मंजिलों का निर्माण लोहे की बीमों से हुआ है। मुख्य मंदिर की चोटी के निर्माण में 52 टन चुंबकीय लोहे का उपयोग हुआ है। माना जाता है कि मंदिर का पूरा ढाँचा इसी चुंबक की वजह से समुद्र की गतिविधियों को सहन कर पाता है।

One of the major tourist destinations of India is the huge Konark Sun Temple - this is why people go to see

माना जाता है कि कोणार्क मंदिर में सूर्य की पहली किरण सीधे मुख्य प्रवेश द्वार पर पड़ती है। सूर्य की किरणें मंदिर से पार होकर मूर्ति के केंद्र में हीरे से प्रतिबिंबित होकर चमकदार दिखाई देती हैं।

One of the major tourist destinations of India is the huge Konark Sun Temple - this is why people go to see

कोणार्क सूर्य मंदिर के प्रवेश द्वार के दोनों और दो विशाल शेर स्थापित किए गए हैं। इन शेरों द्वारा हाथी को कुचलता हुआ प्रदर्शित किया गया है प्रत्येक हाथी के नीचे मानव शरीर है। जो मनुष्यों के लिए संदेश देता हुए मनमोहक चित्र है।

कोणार्क के सूर्य मंदिर परिसर में नाटा मंदिर यानि नृत्य हाल भी देखने लायक है।

मंदिर की संरचना और इसके पत्थरों से बनी मूर्तियां कामोत्तेजक मुद्रा में हैं जो इस मंदिर की अन्य विशेषता को प्रदर्शित करता है।

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.