यदि आपके घर में भी है तुलसी का पौधा तो भूलकर भी ना करें ये गलतियाँ

0 1,305
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

आज के इस न्यूज़ में जानेगे की अगर आपके घरो में भी है. तुलसी का पौधा तो भूलकर भी ना करें ये गलतियाँ तो चलईये जानते है.अक्सर लोग कुछ न कुछ गलती करते रहते है और सजा भी मिल जाते है. क्योकि लोगो को पता नही रहता की हम गलती कर रहे है.

अगर आपके घर में लग है तुलसी का पौधा अच्छा है और तुलसी के पोधे से बिमारिय भी ख़त्म हो जाती है ऐसे मना जाता है की तुलसी के पोधे आपके में अच्छी हवा मिलती है और बीमारिया से दूर रखती है.

अगर आपके घर में लग है तुलसी का पौधा अच्छा है और तुलसी के पोधे से बिमारिय भी ख़त्म हो जाती है ऐसे मना जाता है की तुलसी के पोधे आपके में अच्छी हवा मिलती है और बीमारिया से दूर रखती है.

 वास्तुशास्त्र के अनुसार तुलसी के पौधे के पत्ते को एकादशी, रविवार और मंगलवार को नहीं तोडना चाहिए।

अगर आपके तुलसी का पौधा सुख जाये तो उसे तुरंत नदी में विसर्जन कर दे तुलसी पौधा घर में सदैव हरा-भरा ही होना चाहिए.

1. तुलसी का प्रयोग पूजा पाठ में किया जाता है लेकिन आपको बता दें कि भगवान शिव की पूजा करते समय भूलकर भी तुलसी का प्रयोग न करें। ऐसा करने से शिव जी की पूजा का फल आपको प्राप्‍त नहीं होगा।

2. तुलसी ऐसा पौधा है जिसके घर में रहने से नकारात्‍म उर्जा दूर रहता है किसी भी तरह की नकारात्‍मक शक्तियां घर में प्रवेश नहीं करती है। इसलिए शास्त्रों के अनुसार माना गया है कि तुलसी के पत्ते इन दिनों में नहीं तोड़ने चाहिए। ये दिन हैं एकादशी, रविवार और सूर्य या चंद्र ग्रहण काल। ऐसा करने से पाप लगता है।

3. अगर आप महालक्षमी की कृपा अपने ऊपर बनाए रखना चाहते हैं तो आप हर रोज शाम के समय तुलसी के पास दीपक लगाएं, ऐसा करने से घर में महालक्ष्मी की कृपा सदैव बनी रहती है।

4. तुलसी घर-आंगन में होने से कई प्रकार के वास्तु दोष भी समाप्त हो जाते हैं और परिवार की आर्थिक स्थिति पर शुभ असर होता है।

5. आयुर्वेद में भी तुलसी के पौधे को संजीवनी की उपाधि दी गई है यही कारण है कि इसे प्रयोग करते समय कभी भी इसे चबाना नहीं चाहिए बल्कि सीधे निगल लेना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि तुलसी में ऐसे धातु होते हैं जो हमारे दातों को नुकसान पहुंचाते हैं।

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.