इतिहास का बहुत ही शक्तिशाली राजा, नाम सुनकर ही छक्के छूट जाते थे दुश्मन के !

1,771

जानकारी के लिए आपको बता दें कि भारतीय इतिहास की बात करें तो इतिहास में सम्राट अशोक एक महान शासक हुए थे। इनका जन्म 304 ईसा पूर्व पाटलिपुत्र में हुआ था। सम्राट अशोक की माता का नाम सुभ्रादांगी और इनके दादा सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य थे सम्राट अशोक मौर्य साम्राज्य का तीसरा शासक भी कहा जाता था। सम्राट अशोक को एक महान शासक बनने में चाणक्य ने बहुत सहायता की थी।

SBI बैंक में निकली 10th-12th के लिए क्लर्क भर्ती- लास्ट डेट : 26 जनवरी 2020

RSMSSB Patwari Recruitment 2020 : 4207 पदों पर भर्तियाँ- अभी आवेदन करें

AIIMS भोपाल में निकली नॉन फैकेल्टी ग्रुप A के लिए भर्तियाँ – अभी देखें 

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

बचपन से ही सम्राट अशोक को शिकार का बहुत शौक था। शिकार करने के मामले में सम्राट अशोक का कोई जवाब नहीं था। बड़े होने के बाद में उन्होंने अपने पिता के साथ साम्राज्य के कार्यों में भी सहायता की।

loading...

history of samrat ashok must read

सम्राट अशोक की इन सभी गुणों के कारण ही इनके पिता बिंदु साहब ने इन्हें सम्राट घोषित कर दिया था सबसे पहले सम्राट अशोक ने उज्जैन का कार्यभार संभाला था। जब सम्राट अशोक ने अवंतिका शासन संभाला तो एक बहुत ही कुशल राजनीतिज्ञ के रूप में इनकी पहचान हुई। उसी दौरान सम्राट अशोक ने विदिशा की राजकुमारी शाक्य कुमारी से विवाह रचाया था। शादी के बाद सम्राट अशोक को महेंद्र और पुत्री संघमित्रा को जन्म दीया।

history of samrat ashok must read

कहां जाता है कि सम्राट अशोक का साम्राज्य पूरे भारत में फैला हुआ था। धीरे-धीरे इंका साम्राज्य बहुत बड़ा साम्राज्य बन गया था। लेकिन आपको बता दें कि कलिंग युद्ध में बहुत बड़े स्तर पर खून खराबे को देखकर सम्राट अशोक ने बौद्ध धर्म को अपना लिया था। इसके बाद इन्होंने शांति मार्ग को चुन लिया सम्राट अशोक ने अपने साम्राज्य के सभी लोगों को मंगल कार्यों में शामिल होने की भी सलाह दी थी।

history of samrat ashok must read

सम्राट अशोक ने इन सब के बाद धर्म के प्रचार को ही अपना उद्देश्य बना लिया था इन्होंने धर्म के प्रचार के लिए बहुत सारे ग्रंथों का भी सहारा लिया। सम्राट अशोक ने 84 स्तूपो का निर्माण करवाया था। इसके लिए उन्होंने 3 साल का समय लिया वाराणसी के पास सारनाथ स्तूप के अवशेष आज भी देखने को मिलते हैं।

history of samrat ashok must read

करीब 40 सालों के शासन के बाद सम्राट अशोक की मृत्यु हो गई थी। इनके पुत्र महेंद्र और पुत्री संघमित्रा का धर्म प्रचार में बहुत बड़ा योगदान कहा जाता है। सम्राट अशोक की मौत के बाद भी मौर्य साम्राज्य लगभग 50 सालों तक चला था इतिहासकार यह भी बताते हैं कि सम्राट अशोक ने ही भारत को एक किया था।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.