बप्पा के बारें में ये खास और रोचक बातें नहीं जानते होंगे आप, जाने

0 137
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
  1. जैसा कि आप लोग जानते हैं कि भगवान गणेश जी के पूजा में दुर्वा चढा. जाता है क्योंकि ऐसी मान्यता है कि दूर्वा भगवान गणेश जी की पूजा में चढ़ाना काफी आवश्यक चीज मानी जाती है इसे पीछे की कहानी काफी रोचक है कहा जाता है कि प्राचीन काल अत्याचारी राक्षस हुआ करता था जिसका नाम थाअगलासुर जिसके अत्याचार से सभी देवता है परेशान हो गए थे तब भगवान गणेश जी ने इस राक्षस को निकाल लिया था जिसे कानून के पेट में काफी है जलन की समस्या उत्पन्न हो गई थी इस जलन को कम करने के लिए ऋषि मुनियों ने उन्हें दुर्वा नाम का चीज दिया था जिसके सेवन करने से उनके पेट की जलन समाप्त हो गई थी तभी से उनके पूजा में दुर्वा चढ़ाना आवश्यक हो गया था।

2 जैसा कि सभी लोग जानते हैं कि भगवान गणेश जी का वाहन मूषक है लेकिन बहुत कम लोगों को मालूम हो कि उनका चूहा अत्याचारी राक्षस था जिन्होंने भगवान गणेश जी से अपने जीवन के मुक्ति कृपा पाने के लिए उन्हें अपना वाहन बनाने की प्रार्थना की थी इसे सरकार करते हुए भगवान गणेश जी ने उन्हें अपना वाहन बना लिया था तभी से भगवान गणेश जी का वाहन चूहा हो गया था।
3. जैसा कि सभी लोग जानते हैं कि महाभारत की रचना वेदव्यास ने की थी लेकिन बहुत कम लोगों को मालूम मालूम होगा कि इसे लिखने का कार्य भगवान गणेश जी ने आरंभ किया था इसका प्रमुख कारण या ताकि भगवान गणेश जी को बुद्धि का प्रतीक माना जाता है उन्होंने मां भारत को अपने दोनों हाथों से काफी तेजी के साथ लिखना आरंभ किया था।
4. भगवान गणेश जी को लाल या सिंदूरी रंग बहुत अति पसंद है इसीलिए आप लोग को देखा होगा कि उनके पूजा अनुष्ठान में लाल या सिंदूरी रंग का प्रयोग किया जाता है अगर आप भी सच्चे मन से लाल या सिंदूरी रंग भगवान गणेश जी को अर्पित करते हैं तो आपके मन की सभी मनोकामना की पूर्ति होगी और साथ में आपके जीवन में किसी प्रकार की दुखे तकलीफ होगा तो उसका भी निवारण भगवान गणेश जी कर देंगे। इसके अलावा आप जब भी भगवान गणेश जी की मूर्ति के दर्शन करें तो हमेशा सामने से करें पीछे से करने पर आपके घर में अनेकों प्रकार की परेशानियां तकलीफें आ जाएंगे इस बात का उल्लेख हिंदू धर्म शास्त्र में भी किया गया है।

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.