भगवान श्रीकृष्ण क्यूँ रास रचाते हैं यमुना नदी के किनारे जहा राधा की मृत्यु हुई जाने पूरा सच

0 2,305
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

कृष्ण की प्रेम कहानी दुनिया अनंत तक याद रखेगी। इनकी प्रेम लीला के बारे में कौन नहीं जानता है। भगवान श्री कृष्ण और राधा एक दूसरे को कितना ज्यादा प्रेम करते थे यह बात किसी से छुपी नहीं है। आज पूरी दुनिया कृष्ण और राधा की प्रेम की कहानी को जानती है। लेकिन बहुत ही कम लोग ही जानते हैं कि राधा की मृत्यु कैसे हुई थी आखिर।

DSSSB में निकली फायरमेन पदों पर 10वीं  पास लोगो के लिए दिल्ली में नौकरी – Apply Online for 706 Posts

इंडियन एयरफोर्स में हो रही है 12TH पास युवाओं की भर्ती योग्य उम्मीदवार करे आवेदन 

SAIL  बिहार में अभी हो रही है 10वीं पास लोगो के लिए भर्तियाँ – सैलरी भी आपके मुताबिक- आवेदन करें

दसवीं पास वालों के लिए CISF कांस्टेबल और ट्रेडमैन में आई बम्पर भर्ती – देखें पूरी जानकारी

जब भगवान श्रीकृष्ण ने दुनिया की भलाई और कंस के वध के लिए मथुरा जाने लगे तो उन्होंने राधा को नंद बाबा के गांव में ही छोड़कर चले गए। जब भगवान श्री कृष्णा वृंदावन छोड़कर मथुरा जा रहे थे तो रास्ते में उन्हें राधा मिली। भगवान श्री कृष्ण ने राधा को अपनी मजबूरी बताई और राधा को फिर से मिलने का वचन दिया। जब भगवान श्री कृष्ण ने राधा से अलविदा लिया तब राधा भगवान श्री कृष्ण के वियोग में यमुना नदी के किनारे एक पेड़ के नीचे बैठकर श्री कृष्ण का इंतजार करती रही।लेकिन राधा ने उस पेड़ के नीचे भगवान श्री कृष्ण का इंतजार करते हुए इतने आंसू बहाए की यमुना नदी के किनारे दलदल बन गई। और इसी दलदल में डूबने की वजह से राधा की मृत्यु हो गई।

ये बात जब श्रीकृष्ण को पता चला कि राधा यमुना नदी के किनारे उनके इंतजार में आंसू बहाए जा रही है। तब कृष्ण ने राधा से मिलने के लिए वहां पर गए। लेकिन राधा उन्हें नहीं मिली। कुछ लोगों का मानना है कि आज भी श्री कृष्ण उस जगह राधा से मिलने के लिए आते हैं और रास रचाते हैं।

 

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.