कौन से है ये 3 काम जिन्हें स्त्रियों को नही करना चाहिए और जिनको करने से शनिदेव हैं क्रोधित

595

सभी देवताओं में सबसे ज्यादा गुस्से वाले देव शनिदेव कहलाते है. शनिदेव को न्याय का देवता कहा जाता है. शनिदेव के मन्दिर में स्त्रियों की मनाही होती है ये बात तो आप सभी जानते ही है है इसके अलावा भी कुछ ऐसे काम होते है जिन्हें अगर महिलाएं करती है तो शनिदेव उनसे नाराज हो जाते है. अगर महिलाएं इन कार्यो को करती है तो शनिदेव का प्र-कोप सहने को मिल जाता है.

Shanidev
Shanidev

आइए जानते है कौन से है ये 3 काम जिन्हें स्त्रियों को नही करना चाहिए और जिनको करने से शनिदेव क्रोधित होते है.
शादी के बाद पति की इच्छा का पालन करना हर स्त्री का पहला धर्म होता है. लेकिन कई बार स्त्रियाँ कई बार ऐसी गलती कर बैठती है जब वह अपने पति की इच्छा का पालन नही करती है ऐसी स्त्रियों से शनिदेव नाराज हो जाते है. इसका ये मतलब बिलकुल नही है कि आपका पति आपपर अ”त्या”चार करता है और आप उन्हें सहती रहे. आपको अपने मान सम्मान का ध्यान रखना है और पति की अच्छी बातो पर उसका साथ देना है. अगर आप पति के साथ कदम से कदम मिलाकर काम करते है तो आपको भगवान शनिदेव का आशीर्वाद मिलता है. ऐसे में शनिदेव आपसे प्रसन्न रहते है.

loading...

शादी के बाद एक स्त्री के लिए उसका पति ही सबसे बढकर होता है इसके बावजूद कुछ एक स्त्रियाँ दुसरे पुरुषो के चक्कर में पडकर उनके साथ स”म्बन्ध” बना लेती है. ऐसा काम करने वाली स्त्रियों से शनिदेव नाराज रहते है. एक शादीशुदा स्त्री का दुसरे म”र्द के साथ स”म्ब”न्ध रखना हिन्दू शास्त्रों में पाप कहलाता है. यही नियम पुरुषो के साथ भी लागू होता है लेकिन अगर घर की महिला इस तरह की गलत हरकत करती है तो उस घर में कभी धन टिकता नही है.

घर में स्त्री को सदा अपने से बडो का सम्मान करने के लिए कहा जाता है इसके अलावा कुछ एक स्त्रियाँ शादी के बाद अपने पति के अलावा किसी का भी सम्मान नही करती है. जो स्त्रियाँ अपने घर में बड़े बुजुर्गो का अनादर करती है ऐसी स्त्रियों से शनिदेव भी नाराज रहते है. शनिदेव की कृपा उनके घर पर नही होती है.

शनिदेव की कृपा जिसपर हो जाती है वह उसे राजा बना देते है और इसलिए कभी भी स्त्रियों को ऐसा कोई भी काम नही करना चाहिए जिससे शनिदेव् उनसे नाराज होते है.

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Comments are closed.