खराब पिच के कारण वर्ल्ड कप फाइनल में हारी टीम इंडिया? आईसीसी ने नरेंद्र मोदी स्टेडियम को औसत रेटिंग दी

0 70
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

विश्व कप 2023 के फाइनल में भारतीय टीम को हारे लगभग 19 दिन बीत चुके हैं। हाल ही में अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में जिस पिच पर टीम इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच फाइनल मैच खेला गया, उसे लेकर एक बड़ी रिपोर्ट सामने आई है. टीम इंडिया ने मोदी स्टेडियम की जिस पिच पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ फाइनल मैच खेला था, उसे इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) ने ‘औसत’ रेटिंग दी है। इससे पहले की रिपोर्टों में कहा गया था कि मुख्य कोच राहुल द्रविड़ ने भी भारत की हार के लिए पिच को जिम्मेदार ठहराया था.

सबसे पहले तो आईसीसी ने औसत रेटिंग देकर इस बात की पुष्टि कर दी है कि नरेंद्र मोदी स्टेडियम की पिच ‘अच्छी’ नहीं है. तो सवाल यह है कि ऑस्ट्रेलिया ने इस पिच पर उत्कृष्ट प्रदर्शन कैसे किया? ये सवाल उठना स्वाभाविक है. खराब पिच पर टॉस हारना टीम इंडिया के लिए नुकसानदेह साबित हुआ.

आईसीसी ने विश्व कप के पांच मैचों की पिच रेटिंग का औसत निकाला है, जिसमें भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच फाइनल भी शामिल है। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच फाइनल मैच अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में खेला गया, जिसमें रोहित शर्मा की कप्तानी में टीम इंडिया पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवर में 240 रन पर आउट हो गई और ऑस्ट्रेलिया ने 43 ओवर में मैच जीत लिया।

बीसीसीआई की समीक्षा बैठक में मुख्य कोच राहुल द्रविड़ ने फाइनल मैच में हार के लिए पिच को जिम्मेदार ठहराया. मुख्य कोच ने कहा कि हम इसलिए हारे क्योंकि हमें अपेक्षित टर्न नहीं मिला। अगर स्पिनरों को टर्न मिलता तो हम जीत जाते।’ हमने इस रणनीति से पहले 10 मैच जीते, लेकिन फाइनल में यह काम नहीं आई।’

खराब पिच पर ऑस्ट्रेलिया ने इतना अच्छा कैसे खेला?

सबसे पहले तो आईसीसी ने औसत रेटिंग देकर इस बात की पुष्टि कर दी है कि नरेंद्र मोदी स्टेडियम की पिच ‘अच्छी’ नहीं है. बता दें कि खराब पिच पर टॉस हारना टीम इंडिया के लिए नुकसानदायक साबित हुआ. ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर गेंदबाजी का फैसला किया और टीम इंडिया को 240 रन पर आउट कर दिया. दिन के दौरान पिच से कुछ हद तक गेंदबाजों को मदद मिली। लेकिन जब भारतीय टीम गेंदबाजी करने आई तो लाइटें जल चुकी थीं और मैदान पर धुंध नजर आ रही थी. ऐसे में मेन इन ब्लू गेंदबाजों के लिए करने को ज्यादा कुछ नहीं बचा था.

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.