एक आवारा शायर ही यह बात कह सकता है – शायरी की दुकान भाग-1

शायरी 1 सरे बाज़ार निकलूं तो आवारगी की तोहमत, तन्हाई में बैठूं तो इल्जाम-ए-मोहब्बत. ना शाखों ने पनाह दी,ना हवाओ

Read more