इस फफूंद का निर्माण केटपिलर नाम के जीव के मरने के बाद होता है।