Google Artificial Intelligence: Google आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से संचालित सर्च इंजन

0 85

Google Artificial Intelligence: नए युग का कृत्रिम बुद्धिमत्ता चैटबॉट चैटजीपीटी (संभावित रूप से तीव्र प्रतिस्पर्धा) को गूगल में ‘कोड रेड’ अलर्ट माना जा रहा है। गूगल कंपनी इस मामले को इतनी गंभीरता से ले रही है कि इससे निपटने के लिए गूगल के दो संस्थापकों से भी मार्गदर्शन मांगा जा रहा है। तैयारियां सर्च इंजन के एआई वर्जन को लॉन्च करने के लिए बनाया गया है।

इस प्रकार, एआई का व्यापक रूप से कई अलग-अलग Google उत्पादों में उपयोग किया जाने लगा है (हम स्वयं इसका उपयोग जीमेल, मैप्स, ड्राइव, फोटो आदि में करते हैं)। लेकिन Google अपने सर्च इंजन में AI का अधिक व्यापक उपयोग करने का लक्ष्य बना रहा है। Google जल्द ही AI-आधारित सर्च इंजन का डेमो भी लॉन्च कर सकता है। इसके साथ ही, Google द्वारा 20 से अधिक नए उत्पादों की घोषणा करने की भी संभावना है।

Google Artificial Intelligence: Google ने AI को विकसित करने में एक लंबा सफर तय किया है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि Google इसे सार्वजनिक उपयोग के लिए लॉन्च करने में हिचकिचा रहा है क्योंकि AI के सामाजिक निहितार्थों के बारे में अभी भी अनिश्चितता है। दूसरी ओर, बहुत से लोग यह भी मानते हैं कि Google इस दिशा में तेजी से आगे नहीं बढ़ रहा है क्योंकि यह स्पष्ट नहीं है कि AI आधारित सर्च इंजन से पैसे कैसे कमाए जा सकते हैं!

दूसरी ओर, चैटजीपीटी की मूल कंपनी में निवेश करने वाली माइक्रोसॉफ्ट अपने कार्यालय कार्यक्रमों और बिंग सर्च इंजन में चैटजीपीटी की तकनीक को जोड़ने की संभावना है। संभवत: मार्च के अंत तक ऐसा हो जाएगा। चैटजीपीटी में वर्तमान में उत्तरों में कई त्रुटियां हैं, इसलिए यह संभावना नहीं है कि यह जल्दी से मौजूदा पारंपरिक खोज तकनीकों का विकल्प बन जाएगा। लेकिन जैसे-जैसे यह तकनीक और स्मार्ट होती जाएगी, इसका इस्तेमाल बढ़ता जाएगा और यह भी लगता है कि स्कूल-कॉलेजों से लेकर दफ्तरों तक में कॉपी-पेस्ट का एक नया कल्चर शुरू हो जाएगा।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.