First phase of 5G: 5जी के पहले फेज में मिलेगी 600 एमबीपीएस की स्पीड, ऐसे काम करेगा फोन, जानिए जरूरी बातें

143

First phase of 5G: 5जी के रोलआउट फेज में मोबाइल ग्राहकों को 600 मेगाबिट्स प्रति सेकेंड तक की स्पीड मिलेगी। यह उम्मीद की जाती है कि हैंडसेट यानि मोबाइल फोन उसी तरह काम करेंगे जैसे पेशेवर कंप्यूटर अनुप्रयोगों तक पहुंचने और डेटा को संसाधित करने के लिए करते हैं। यह बात उद्योग के जानकारों ने कही है। रिलायंस जियो ने चार शहरों- दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और वाराणसी में चुनिंदा ग्राहकों के लिए एक नया प्लान लॉन्च किया है और भारती एयरटेल ने आठ शहरों- दिल्ली, मुंबई, वाराणसी, बेंगलुरु, चेन्नई, हैदराबाद में 5जी हैंडसेट वाले सभी ग्राहकों के लिए एक नया प्लान लॉन्च किया है। , नागपुर और सिलीगुड़ी। 5जी सेवा शुरू कर दी गई है।

First phase of 5G: जानिए कंपनियों ने क्या कहा

दोनों कंपनियों के ग्राहकों को 5जी सेवाएं लेने के लिए अपनी मौजूदा सिम बदलने की जरूरत नहीं होगी। रिलायंस जियो ने कहा है कि उसके ग्राहक ‘बीटा ट्रायल’ के तहत 5जी सेवाओं का लाभ तब तक लेते रहेंगे, जब तक कि किसी शहर का ‘नेटवर्क कवरेज’ काफी हद तक पूरा नहीं हो जाता। कंपनी एक गीगाबिट प्रति सेकंड (जीबीपीएस) तक की गति के साथ असीमित 5जी इंटरनेट प्रदान करने का दावा करती है। हालांकि, क्षेत्र के विशेषज्ञों का मानना ​​है कि गति का यह स्तर मोबाइल स्टेशनों के बहुत करीब उपलब्ध होगा।

डाउनलोड स्पीड बढ़ेगी

एरिक्सन के नेटवर्क सॉल्यूशंस के स्ट्रैटेजिक नेटवर्क डेवलपमेंट (दक्षिणपूर्व एशिया, ओशिनिया और भारत) के प्रमुख थियावाशेंग एनजी ने कहा, “5जी रोलआउट चरण से 600 एमबीपीएस (प्रति सेकंड मेगाबिट्स) तक की गति देने की उम्मीद है। इसकी वजह नेटवर्क पर ‘कॉल’ और ‘डेटा’ का कम इस्तेमाल है। हालांकि, पूरी तरह से लागू होने पर भी यह 200-300 एमबीपीएस की गति हासिल कर लेगा। इसका मतलब है कि 600 एमबीपीएस की स्पीड से करीब दो घंटे का ‘हाई डेफिनिशन’ सिनेमा 6 जीबी फाइलों के साथ एक मिनट 25 सेकेंड में डाउनलोड किया जा सकता है। हो सकता है। वहीं, एक 4K सिनेमा (अल्ट्रा हाई डेफिनिशन का मतलब बहुत ही उच्च गुणवत्ता) को डाउनलोड करने में लगभग तीन मिनट का समय लगेगा।

फोन को इस तरह सेट करना होगा

जो ग्राहक 5G हैंडसेट खरीदते हैं या जिनके पास 5G-सक्षम हैंडसेट है, उन्हें अपनी नेटवर्क सेटिंग में 5G विकल्प दिखाई देगा और सेवा का लाभ उठाने के लिए इसे चुनना होगा। एक बार ग्राहक के क्षेत्र में 5G उपलब्ध हो जाने पर, उनके हैंडसेट पर मोबाइल नेटवर्क डिस्प्ले 4G के बजाय 5G दिखाना शुरू कर देगा। पब्लिक सेक्टर बीएसएनएल के पूर्व चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर अनुपम श्रीवास्तव के मुताबिक, टेलीकॉम कंपनियां 5जी सर्विस लॉन्च होने तक फ्री सर्विस दे सकती हैं। इसकी मदद से वे ग्राहकों को नई सेवाओं के लाभों से अवगत करा सकेंगे।

हर देश में 5G सेवा के लिए अलग-अलग दरें

नोकिया के वरिष्ठ उपाध्यक्ष और भारतीय बाजार श्रीवास्तव ने कहा, “एक बार जब 5जी सेवा एक सर्कल में शुरू हो जाती है, तो टेल्को अपनी टैरिफ दरों की घोषणा कर सकती है और 5जी के लिए अधिक शुल्क ले सकती है।” चीफ संजय मलिक ने कहा कि 5जी में हाई स्पीड भारत में प्रति ग्राहक औसत ‘डेटा’ खपत को डेढ़ साल में दोगुना कर देगी। उन्होंने कहा कि 5जी सेवाओं की दरें हर देश में अलग-अलग होती हैं। मलिक ने कहा, ‘कुछ देश ऐसे हैं जो 5जी के लिए अलग से शुल्क नहीं लेते हैं। कुछ ऐसे हैं जो अधिक शुल्क लेते हैं। यहां के कारोबार के आधार पर भारत के लिए एक मॉडल तैयार किया जाएगा।

देश में 5जी की शुरुआत के साथ…

देश में 5जी के आने से स्मार्टफोन की कीमत कम होगी और साथ ही यह एक प्रोफेशनल कंप्यूटर की तरह काम करेगा। यह ऐसा होगा जैसे आप किसी ‘वर्कस्टेशन’ यानी ऑफिस में काम कर रहे हों। क्वालकॉम के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) क्रिस्टियानो अमोन ने कहा, “जब हम भारत में 5जी विकास के अवसरों को देखते हैं, तो मुझे कई और बहुत महत्वपूर्ण अवसर दिखाई देते हैं। सबसे पहले, भारत में हर एक डिवाइस में अलग-अलग मूल्य बिंदुओं पर 5G तकनीक होगी।” अमोन ने कहा, “… अगर आपके पास 5G फोन या कंप्यूटर है और आप एक ऐसा एप्लिकेशन चलाना चाहते हैं जिसके लिए बहुत अधिक गणना की आवश्यकता है, तो 5G पावर की आवश्यकता है। यह कनेक्शन प्रदान करेगा… ”

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.