Business Idea: नौकरी छोड़ो..! करो ये कृषि व्यवसाय, कमाएं करोड़ नहीं लाखों

0 174
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

Business Idea: भारत में खेती एक प्रमुख व्यवसाय है। हालांकि, कृषि में बहुत अनिश्चितता है। अक्सर प्रकृति की सनक (जलवायु परिवर्तन) के साथ-साथ कृषि उत्पादों की अत्यधिक कीमत के कारण किसानों को लाखों रुपये का नुकसान उठाना पड़ता है। ऐसे में किसानों के सिर पर कर्ज का बोझ भारी है।

Business Idea: हालांकि, अगर किसान समय के साथ बदलते हैं और कृषि के साथ-साथ पूरक व्यवसाय करते हैं, तो निश्चित रूप से किसानों को अच्छी आय प्राप्त होगी। आज हम यहां अपने किसान पाठक मित्रों के लिए एक विशेष खाद्य प्रसंस्करण उद्योग के बारे में जानकारी लेकर आए हैं। आज हम यह जानने जा रहे हैं कि टमाटर (टमाटर खाद्य प्रसंस्करण) को संसाधित करके जैव उत्पाद कैसे तैयार किए जा सकते हैं और किसान इसकी बिक्री से लाखों रुपये कैसे कमा सकते हैं।

दोस्तों, वास्तव में पिछले महीने टमाटर की फसल को बाजार में अच्छी कीमत मिल रही थी। लेकिन अब बाजार में टमाटरों की भारी आवक के कारण टमाटर की कीमतों में भारी गिरावट आई है। ऐसे में किसानों के खर्चे की वसूली करना नामुमकिन सा हो गया है। लेकिन अगर टमाटर किसान इस संकट के समय टमाटर को प्रोसेस करके खरीद उत्पाद तैयार करते हैं, तो उन्हें निश्चित रूप से लाखों लोगों को फायदा होगा।

दोस्तों आज हम टमाटर खाद्य प्रसंस्करण के बारे में जानकारी सीखने जा रहे हैं। इसमें टमाटर को प्रोसेस करके बाय-प्रोडक्ट तैयार किए जाते हैं। खाद्य प्रसंस्करण फलों और सब्जियों से उत्पाद बनाकर और उन्हें बेचकर अच्छी आय उत्पन्न करता है। ऐसी स्थिति में जब टमाटर के कम दाम मिलते हैं तो खाद्य प्रसंस्करण इकाई स्थापित कर अच्छी आमदनी प्राप्त की जा सकती है।

Business Idea: कैसे प्रोसेस करें

फसलों के दाम ऊपर-नीचे होते रहते हैं। ऐसे में किसानों को खाद्य प्रसंस्करण इकाइयां स्थापित करने की सलाह दी जाती है, ताकि बाजार भाव कम होने पर वे इसे संसाधित कर बेहतर आय अर्जित कर सकें। यद्यपि खाद्य प्रसंस्करण, प्रसंस्कृत खाद्य की पैकेजिंग, विपणन आदि में उचित प्रशिक्षण भी आवश्यक है, टमाटर खाद्य प्रसंस्करण की शुरुआत के बाद नुकसान की संभावना गायब हो जाती है और इससे बने उत्पाद को दूसरे रूप में संग्रहीत किया जा सकता है।

कई कंपनियां टमाटर के उत्पाद जैसे सॉस, चटनी और टमाटर प्यूरी बनाती और बेचती हैं। इन उत्पादों को प्रसंस्करण इकाई में ठीक से निर्मित किया जाता है और बोतलबंद करके बाजार में बेचा जाता है। इन उत्पादों को लंबे समय तक इस्तेमाल किया जा सकता है।

सरकार ने किसानों को कृषि के साथ-साथ ऐसे सूक्ष्म उद्यम या इकाइयां स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित करना शुरू कर दिया है।

किसान ‘सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना’ के माध्यम से भी सब्सिडी का लाभ उठा सकते हैं।

किसान किसी भी कंपनी से जुड़ सकते हैं या कृषि विज्ञान केंद्रों से खाद्य प्रसंस्करण का प्रशिक्षण ले सकते हैं।

भारत में खाद्य प्रसंस्करण के लिए सार्वजनिक निजी भागीदारी यानी पीपीपी के माध्यम से कई प्रकार के प्रसंस्करण उद्योग शुरू किए गए हैं।

इसके तहत कई निजी कंपनियां टमाटर की अनुबंध खेती करती हैं और निर्धारित मानकों के आधार पर किसानों से उपज खरीदती हैं।

इस बीच, कंपनियां किसानों की सभी उपज नहीं खरीदती हैं, किसान अपनी उपज का 75 प्रतिशत कंपनी को और 25 प्रतिशत फसल खुद बाजार में बेच सकते हैं।

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.