ज्योतिष: हर व्यक्ति के जीवन में क्यों जरूरी है शुक्र ग्रह खुश होना, अभी जाने लें वर्ना पछतायेंगे

1,011

शुक्र ग्रह का हमारे जीवन में बहुत महत्व है। हमारे शास्त्रों में इसे दानव गुरु यानि असुरों का गुरु माना गया है। शुक्र को जीवन में समृद्धि, विलासी प्राकृतिक सुख और दाम्पत्य जीवन का कारक माना जाता है

क्या है शुक्र का अर्थ:

विज्ञान के अनुसार शुक्र को सबसे चमकीला तारा माना जाता है और यह पृथ्वी के सबसे नजदीक भी है। ज्योतिष की दृष्टि से शुक्र भी एक ऐसा ग्रह है जिसकी शुभ स्थिति आपके भाग्य में वृद्धि करती है।

शुक्र ज्योतिष:

कुंडली में शुक्र खुश हो तो जीवन में खुशियों की बरसात होती है। प्यार से लेकर जीवन तक सब कुछ हमें दिलचस्पी देता है। शुक्र ग्रह हमारे जीवन को सबसे ज्यादा प्रभावित करने वाला ग्रह है। वह वृष और तुला राशि के स्वामी हैं। मीन राशि में यह अपने उच्च स्थान पर होता है जबकि कन्या राशि में यह निम्न स्थान पर होता है।

loading...

शुक्र क्या करता है:

शुक्र एक ऐसा ग्रह है जो हमें कलात्मक स्वभाव देता है। हमें सौंदर्य प्रेमी बनाएं। विपरीत लिंग के प्रति आकर्षण पैदा करें। हमें एक अच्छा प्रेमी बनाओ जो हमारे व्यक्तित्व को भर देता है। हम स्त्री सुख, वाहन सुख और धन सुख प्रदान करते हैं। यानी ये पूरी लग्जरी ऑफर करते हैं। लेकिन यह शुक्र खराब या नीची स्थिति में होने पर हमें सुस्ती देता है।

क्या है शुक्र अस्त और उद्यान का समय:

जिस दिन शुक्र अस्त होगा उस दिन कई शुभ कार्य भी वर्जित रहेंगे। वैदिक ज्योतिष में शुक्र की मृत्यु को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि शुक्र सभी सुखों का कारक है। इसके अलावा यह शुभ भी होता है और यही कारण है कि शुक्र सभी प्रकार के मांगलिक कार्यों में एक तरह से रुक जाता है।

ग्रह निकट आये तो :

यदि कोई ग्रह मार्ग में यात्रा करते समय सूर्य के बहुत अधिक निकट आ जाए तो वह नष्ट हो जाता है। स्थानांतरित होने पर, सूर्य और शुक्र के बीच 10 डिग्री का अंतर होता है, तो शुक्र समायोजित हो जाता है। यानी शुक्र आकाश में दिखना बंद कर देता है। इसे शुक्र की मृत्यु, शुक्र के डूबने या शुक्र के गायब होने के रूप में भी जाना जाता है। जब शुक्र नीचे जाता है, तो इसका प्रभाव न्यूनतम या पूरी तरह से बंद हो जाता है। शुक्र एक नरम ग्रह है और सूर्य राक्षसी ग्रह है, इसलिए जब शुक्र अस्त होता है, तो उसके शुभ परिणामों की कमी होती है और व्यक्ति कई सुखों से वंचित हो सकता है।

विवाह के संबंध में शुक्र का महत्व:

लोग अपने व्यवहार में रूखे हो जाते हैं और व्यक्तिगत संबंधों को नुकसान पहुंचता है। शुक्र विशेष रूप से शारीरिक सुख और वैवाहिक जीवन के लिए शुभ स्थिति में है। शुक्र की दशा में कोई भी शुभ कार्य वर्जित है, विशेष रूप से विवाह, घर का प्रवेश आदि नहीं किया जाता है और ऐसे कार्य शुक्र के उदय के बाद ही किए जाते हैं।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.