प्राचीन संस्कृति के अनुसार यह मंत्र देंगे आपको खूब धन दौलत

23

यह बात तो हम सभी जानते हैं कि जब हम सुबह – सुबह अपनी आंखें सबसे पहले खोलते हैं ,नींद से उठ कर तो हम चाहते हैं कि हमारे सामने कोई शुभ चीज हो रही हो. प्राचीन संस्कृति के अनुसार अगर आप चाहते हैं कि आपका दिन मंगलमय हो और आपका दिन हमेशा अच्छा बीते तो इसके लिए कुछ तरीके बताए गए हैं.

यह ऐसा संस्कार हैं जो सुबह उठकर आपको जरूर करना चाहिए. यह है ‘कर दर्शनम्’ – सुबह उठते ही सबसे पहले हमें अपने हाथ की हथेलियों का दर्शन करना चाहिए. हम आपको बताएंगे कि सुबह – सुबह अपनी हथेलियों को देखने से क्या होता है ?

सबसे पहले जब आप सुबह उठते हैं ,तो अपने दोनों हाथों को एक दूसरे के साथ रगड़े और उसके बाद उसे अपनी आंखों में लगाए. रात भर सोते समय आपके शरीर में जो ऊर्जा उत्पन्न हुई है, वह बर्बाद नहीं होती है और आपके शरीर की ऊर्जा आपके शरीर में ही रहती है.

उसके बाद अपनी हथेलियों को एक किताब की तरह जोड़ दें .  इसके बाद इस मंत्र का उच्चारण करें –

”कराग्रे वस्ते लक्ष्मी करमध्ये सरस्वती

करमूले तू गोविंद प्रभाते कर दर्शनम् ”

इस श्लोक का अर्थ है कि हमारी हथेलियों के उंगलियों पर लक्ष्मी जी बसती हैं ,हमारे हथेली के बीच में सरस्वती का वास है, वही हमारी कलाइयों के पास में गोविंदा का वास है.अगर हम सुबह – सुबह,लक्ष्मी, सरस्वती और गोविंदा का दर्शन करते हैं तो हमारा पूरा दिन बहुत ही अच्छा और शुभ गुजरता है.

जो लोग पुरुषार्थ के भरोसे अपना जीवन चलाते हैं यानी कि पुरुषार्थी होते हैं और हमेशा कर्म करते रहते हैं उनका जीवन कभी लक्ष्मी, सरस्वती और गोविंद के बिना नहीं होता. इन लोगों का आपके जीवन पर हमेशा आशीर्वाद बना रहता है. हमारे जीवन के चार आधार है- धर्म ,अर्थ, काम और मोक्ष. इन चारों को ही पुरुषार्थ कहा गया है .

जिओ में निकली Sale :- 

Jio 2 Smartphone  मोबाइल को 499 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे

JIO Mini SmartWatch को 199 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे

JioFi M2 को 349 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे

Jio Fitness Tracker को 99 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे

सलमान की नई होस्ट हो सकती है ये एक्ट्रेस, नए कॉन्सेप्ट का भी हुआ खुलासा | Big Boss 12 details

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

loading...

loading...