हां मैंने श्रद्धा को मारा, कोई पछतावा नहीं- पॉलीग्राफी टेस्ट में आफताब का कबूलनामा

0 104

लिव-इन पार्टनर श्रद्धा वॉकर की बेरहमी से हत्या करने वाले आफताब ने पॉलीग्राफ टेस्ट में कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। सूत्रों के हवाले से मिली खबरों के मुताबिक, आफताब ने पॉलीग्राफ टेस्ट में स्वीकार किया है कि उसने श्रद्धा की हत्या की.बताया जा रहा है कि उन्होंने कहा कि साथ ही उन्हें इस हत्या का कोई मलाल नहीं है, भले ही उन्हें फांसी हो जाए, कोई दर्द नहीं है. उन्होंने बताया कि फ्लैट में ही श्रद्धा की हत्या की गई थी।

गौरतलब हो कि श्रद्धा हत्याकांड की जांच शुरू हुए 20 दिन से ज्यादा हो चुके हैं, लेकिन अब तक ऐसे कई सबूत नहीं मिले हैं. आफताब सच बोल रहा है या झूठ, पुलिस की पूछताछ काफी नहीं थी, इसलिए पुलिस ने कोर्ट से इजाजत लेकर पहले आफताब का पॉलीग्राफ टेस्ट कराया. पॉलीग्राफी टेस्ट लाई डिटेक्टर टेस्ट के लिए खड़ा है, जो वैज्ञानिक रूप से यह निर्धारित करना आसान बनाता है कि आरोपी सच बोल रहा है या झूठ।

सोमवार को टेस्ट पूरा हो गया और अब आफताब के नार्को टेस्ट की बारी है. पुलिस भी इस मामले की जांच जल्द पूरी करना चाहती है, इसलिए आफताब के नार्को टेस्ट में तेजी लाने के लिए पुलिस ने 1 दिसंबर को कोर्ट में अर्जी दाखिल कर आफताब और कोर्ट का भी नार्को टेस्ट कराने की अनुमति मांगी थी. अनुमति दी थी दिल्ली पुलिस अब एक दिसंबर यानी गुरुवार को दिल्ली के अंबेडकर अस्पताल में आफताब का नार्को टेस्ट कराएगी.

पुलिस को उम्मीद है कि नार्को टेस्ट के दौरान आफताब कुछ ऐसे राज खोल सकता है, जिससे पुलिस को और बरामदगी करने में आसानी होगी. यानी नार्को के बाद शरीर के बाकी हिस्से, श्रद्धा का मोबाइल फोन और कई अहम सबूत पुलिस को मिल सकते हैं. अगर नार्को के बाद कोई बरामदगी होती है तो यह अदालत के सामने आफताब के खिलाफ सबसे बड़ा सबूत हो सकता है.

श्रद्धा हत्याकांड में पुलिस ने आफताब की निशानदेही पर महरौली छतरपुर के जंगल से शरीर के 13 टुकड़े और जबड़ा बरामद किया है. पुलिस को आफताब के फ्लैट के किचन, बाथरूम और बेडरूम में खून के धब्बे मिले, मतलब पूरे घर में हत्या के सबूत मिले. पुलिस ने गुरुग्राम से भी शरीर के अंग बरामद किए हैं

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply