क्या आने वाला सूर्य ग्रहण कोरोना वायरस का अंत कर देगा ? जवाब जानने के लिए क्लिक करें

692

21 जून को सूर्य ग्रहण होने वाला है। इस समय, पूरी दुनिया कोरोनोवायरस महामारी से जूझ रही है, जबकि लोग इसके जल्द खत्म होने का इंतजार कर रहे हैं। लोग सूर्य ग्रहण को कोरोनोवायरस के साथ जोड़ कर भी देख रहे हैं। हाल ही में चेन्नई के एक वैज्ञानिक ने कोरोनावायरस और सूर्य ग्रहण के बीच संबंध का दावा किया है। एएनआई की एक रिपोर्ट के अनुसार, चेन्नई के एक वैज्ञानिक ने दावा किया है कि 26 दिसंबर, 2019 को होने वाले कोरोनोवायरस प्रकोप और ग्रहण के बीच सीधा संबंध है। उनका दावा है कि कोरोनोवायरस 21 जून के आने वाले सूर्य ग्रहण पर समाप्त हो जाएगा।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

कोरोनोवायरस हमारे जीवन को नष्ट करने के लिए आए हैं।

इतना ही नहीं बल्कि परमाणु और पृथ्वी वैज्ञानिक डॉ। केएल सुंदर कृष्ण ने भी कहा है, ‘ ग्रहण के बाद उत्सर्जित होने वाली विखंडन ऊर्जा ( fission energy )के कारण, पहले न्यूट्रॉन उत्परिवर्तित कण के संपर्क में आने के बाद कोरोनावायरस टूट जायेगा ।’ वह यह भी दावा करते  है कि कोरोनोवायरस हमारे जीवन को नष्ट करने के लिए आए हैं। उनकी समझ के अनुसार, 26 दिसंबर के ग्रहण के बाद, सौर मंडल ( solar system )में ग्रहों की स्थिति में बदलाव हुआ है, जिसके बाद अंतर-ग्रह बल और ऊर्जा के अंतर के कारण ऊपरी वातावरण से कोरोनोवायरस की उत्पत्ति हुई है।

इस परिवर्तन के कारण, कोरोनोवायरस के लिए उचित वातावरण बनाया गया था। ये न्यूट्रॉन सूर्य की विखंडन ऊर्जा से उत्सर्जित होते हैं। उन्होंने आगे कहा कि उन्होंने न्यूक्लियर को न्यूक्लियेट करना शुरू कर दिया है, न्यूक्लियस बनने की यह प्रक्रिया बाहरी सामग्री के कारण शुरू हुई होगी, जो ऊपरी वायुमंडल में जैव-अणुओं और बायो-न्यूक्लियर के संपर्क में आने के कारण हो सकती है।

loading...

Will the upcoming solar eclipse end the corona virus? सूर्य ग्रहण

सूर्य ग्रहण इस वायरस का प्राकृतिक इलाज

उनका मानना ​​है कि जैव-अणु संरचना (प्रोटीन) का उत्परिवर्तन ( mutated ) इस वायरस का एक संभावित स्रोत हो सकता है।

उन्होंने दावा किया है कि 21 जून का सूर्य ग्रहण इस वायरस का प्राकृतिक इलाज हो सकता है।

उन्होंने कहा कि हमें घबराने की जरूरत नहीं है। यह सौरमंडल में होने वाला एक प्राकृतिक आंदोलन है।

कृष्ण ने कहा कि सूर्य ग्रहण एक प्राकृतिक उपचार भी हो सकता है जो हमें इस महामारी से छुटकारा दिलाएगा।

सूर्य की किरणें और सूर्य ग्रहण इस वायरस का एक प्राकृतिक इलाज हैं।

न केवल आगामी सूर्य ग्रहण वायरस को बेअसर कर सकता है, बल्कि वैज्ञानिक डॉ। केएल सुंदर ने यह भी कहा कि उत्परिवर्तन प्रक्रिया संभवतः पहली बार चीन में देखी गई थी,

जिसके कारण यह वायरस पहले चीन में फैल गया था और सूर्य ग्रहण ने चीजों को बदल दिया होगा।

इसका कोई सबूत नहीं मिला। यह एक प्रयोग या एक जानबूझकर करे गए प्रयास का प्रकोप हो सकता है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.