घर दुकानों के बाहर क्यों टांगे जाते हैं निम्बू मिर्ची ?

247

दरवाजे ,दुकानों एवं को सभी जगह जो हमारे लिए शुभ होती है हम उसके दरवाजे पर नींबू मिर्च टांग देते हैं। मान्यता यह है कि नींबू मिर्च टांगने से घर पर घर के लोगो पर बुरी नजर नहीं लगती है। नींबू मिर्च टांगने से नकारात्मक शक्तियों का प्रभाव हमारे घर पर नहीं पड़ता है, नींबू मिर्च की वजह से सारी नकारात्मक शक्तियां, काली शक्तियां, बुरी नजर सब दूर हो जाती है। और घर में धन लक्ष्मी का वास होता है,सभी देवताओं का वास होता है,घर का वातावरण शुद्ध हो जाता है। आपने कई दुकानों पर, घर के दरवाजों पर नींबू मिर्च टंगे हुए देखे होंगे। पौराणिक समय से यह मान्यता चली आ रही है कि नींबू मिर्ची सभी नकारात्मक शक्तियों दुष्प्रभाव एवं बुरी नजरों से होने वाले दुष्प्रभाव को खत्म कर देती है तथा घर में शुभता एवं शांति लाती है। हमारे ऋषि मुनि सभी नींबू मिर्ची का इस्तेमाल किया करते थे ताकि इससे उन्हें लाभ हो।

पौराणिक समय से चली आ रही मान्यताओं को लोग आज भी मानते है और अपने घर के दरवाजे, दुकानों पर नींबू मिर्ची टांगते है। बहुत से लोग इसे ना मानते है वो लोग इसे अंधविश्वास भी कहते है। और ऐसा होता भी है आज विज्ञान (science) के जमाने में बहुत से लोग इन बेबुनियादी बेतुकी बातो पर यकीन नहीं करते है। और ऐसा कुछ भी नहीं मानते है । और ऐसा होना भी चाहिए हम सभी को इस अंधविश्वास से बाहर निकलकर आगे बढ़ना चाहिए।

लेकिन बहुत सारी बाते ऐसी है जिसे हमारे ऋषि मुनियों ने बनाया है और जो पौराणिक समय से चली आ रही है लेकिन ऐसा तो नहीं कि सभी बातें अंधविश्वास ही हो कुछ बातें ऐसी भी होती है जिसे हमारे पूर्वजों ऋषि मुनियों ने कुछ सोच समझकर बनाया होगा। लेकिन मध्यकाल में रहे पंडितो, सभी ऊंची जाति के लोग जो खुद को भगवान तुल्य मानते थे। उन्होंने ऋषियों द्वारा बनाए गए वे सभी नियमों ,तथा वेदों में लिखे सभी चीजों को गलत तरीके से इस्तेमाल किया और अपने लाभ के लिए उसका अर्थ ही बदल दिया।

ऐसी सभी चीजे जो ऋषि मुनियों द्वारा बनाया गया जिसे उन्होंने एक उचित वैज्ञानिक तरीके से बनाया था, मध्यकाल में उपस्थित सभी पंडितो ने उनके द्वारा बनाए गए नियमों का सही कारण आम लोगों को नहीं बताया बल्कि अपने मन से गढ़कर सभी बातों को आगे बढ़ाया और वही बातें आज भी चली आ रही है। हम आज भी अंधविश्वास की तरह उसका पालन करते हुए चले आ रहे हैं। वह सारी चीजें जिसे हमारे ऋषि मुनियों ने वैज्ञानिक तरीके से हम सब की भलाई के लिए ही बनाया था। लेकिन मध्यकालीन युग में हुए पंडित जो खुद को सबसे बड़ा मानते थे उन लोगों ने सभी बातों को किसी और ही रूप में आम लोगों के सामने उपस्थित किया, इन सब के पीछे उनका मकसद लोगों को डराना और उनका अपने फायदे के लिए इस्तेमाल करना था।

loading...

हम सभी उन पंडितो के जाल में फस कर आज भी अंधविश्वासों का पालन कर रहे हैं और अपना ही नुकसान करवा रहे हैं। हम आज भी अंधविश्वासों का पालन बिना उसका वैज्ञानिक कारण जाने हुए कर रहे हैं जिसका खामियाजा हम सब को कई बार भुगतना पड़ता है। नींबू मिर्ची टांगने के पीछे अंधविश्वास यह बनाया गया कि नींबू मिर्ची से घर पर लगने वाले सभी बुरी नजरें सभी नकारात्मक शक्तियां समाप्त हो जाती है, जिससे घर में धन का वास होता है और हमारा व्यापार हमारा घर अच्छे से चलने लगता है। लेकिन इसके पीछे का क्या वैज्ञानिक कारण है इसके बारे में आपको जान लेना अति आवश्यक है। नींबू मिर्ची टांगना वैज्ञानिक दृष्टि से देखा जाए तो अत्यंत ही लाभकारी है किंतु इसे ढोंगी पंडितो द्वारा अपने मन से गढ़कर इसे किसी और रूप में आम जानता के सामने पेश किया गया और लोगो को डराकर इसका बखूबी से इस्तेमाल किया गया।

आइए हम जानते है की आखिर नींबू मिर्ची टांगने के पीछे का वैज्ञानिक कारण क्या है ऐसा क्या कारण है जिसे ध्यान में रखते हुए ऋषि-मुनियों ने नींबू मिर्ची को घर के दरवाजों पर टांगने को कहां है।

वैज्ञानिक दृष्टि से देखा जाए तो नींबू मिर्ची बहुत ही लाभकारी होता है नींबू एक खट्टा पदार्थ होता है,और मिर्ची बहुत तीखी होती है, नींबू के खट्टे होने ,और मिर्ची की तीखी होने के कारण जब इसे दरवाजे पर टांगा जाता है तो इसके खट्टे तथा तीखे सुगंध से मक्खियां, मच्छर, और कई किट पतंगे ( insects) जो हमे नुकसान पहुंचाते हैं, इंसानों को बीमार कर देते हैं। वे सभी नींबू के खट्टे पन की वजह से घरों में और दुकानों में प्रवेश नहीं करते हैं। जिसके कारण घरों में मच्छर, मक्खियां एवं कई अन्य प्रकार के कीट पतंगे प्रवेश नहीं कर पाते हैं और हमारे घर के खाद्य सामग्रियों में नहीं जा पाते हैं जिसके कारण हम बीमार नहीं होते हैं और हमारा स्वास्थ्य अच्छा रहता है।

अब मान लीजिए किसी व्यक्ति की मिठाई की दुकान है और उसके दुकान में कई मच्छर, मक्खियां, जहरीले कीट पतंगे उसके मिठाइयों पर आकर बैठ रहे हैं। मिठाइयों के ऊपर वह हमेशा मंडराते रहते हैं। आपने कई दुकानों में देखा होगा कि कैसे मक्खियां मिठाइयों पर भिनभिनाते रहती है। वे मक्खियां पता नहीं किस किस स्थान पर बैठती है और वह वहां से उड़कर सीधा मिठाइयों पर बैठती है, और मिठाइयों को भी संक्रमित कर देती है। मिठाइयों में मक्खियों के बैठने से उसमे कई कीटाणु पनपने लगते है। जिसके कारण वह मिठाई खराब हो जाती है। और वह हमें ऊपर से खराब दिखाई तो नहीं देता कि किंतु मक्खियों की वजह से उसमें कई तरह के हानिकारक कीटाणु पनपने लगते है।और जब हम उस मिठाई को खरीद कर खा लेते हैं तो उस मिठाई को खाने के पश्चात हम बीमार पड़ जाते हैं। और एक बार बीमार पड़ने पर हम दोबारा उस मिठाई वाले की दुकान पर नहीं जाते है।

भाई जब मिठाई खाकर कोई बीमार पड़ जाएगा तो दुबारा उस दुकान पर नहीं जाएगा और ना हीं उस दुकान से मिठाईयां खरीदेगा। अब इस कारण से उस मिठाई वाले को घाटा का सामना करना पड़ेगा। और उस दुकान वाले को लगेगा कि उसकी दुकान पर किसी की बुरी नजर लग गई है।वह इसके निवारण के लिए किसी बाबाजी के पास जाएगा और उसे वहा से यहीं जवाब मिलेगा कि तुम्हारे दुकान को किसी की बुरी नजर लग गई है। और उससे कुछ पैसे की ठगी कर उसे नींबू मिर्ची टांगने का उपाय दिया जाएगा । और जब वह नींबू मिर्ची दुकान पर टांगेगा तो नींबू और मिर्च टांगने पर मक्खियां मच्छर और उसके दुकान में प्रवेश नहीं कर पाएंगी और मिठाइयां एवं अन्य खाद्य सामग्री सुरक्षित रहेंगी। जिसके कारण जब कोई उससे मिठाई खरीदता है और खाता है तो वह बीमार नहीं पड़ता है और वह अब बार बार उस दुकान से मिठाई खरीदने लगता है। बार-बार उसी दुकान से मिठाई खरीदने के कारण उस दुकान वाले की ग्राहक भी बढ़ते है और उसे काफी मुनाफा भी होता है, और उसे लगता है कि चलो अब लक्ष्मी का आगमन होने लगा है उसके घर में। अब मिठाई वाले को यकीन हो जाता है कि बुरी नजर जैसी कोई चीज होती है और उसकी दुकान पर किसी की बुरी नजर ही लग गई थी जो नींबू मिर्ची टांगने से खत्म हो गई है। और फिर वह दूसरों को भी यही सलाह देने लगता है कि बाबाजी ने उपाय बता कर मेरे दुख दूर कर दिए और उसकी यह बात सुनकर दूसरे लोग भी उस बाबा जी के पास जाने लगते हैं जिससे बाबा जी को काफी मुनाफा होने लगता है।

इस वैज्ञानिक तथ्य को ही बाबाओं ने बुरी नजर, नकारात्मक शक्ति, काली शक्तियों से जोड़ दिया है उनके हिसाब से नींबू मिर्ची नहीं टांगने से उस मिठाई वाले की दुकान पर बुरा नजर और नकारात्मक शक्तियों का वास हो जाता है। जिससे उन्हें हानि होने लगती है। किंतु इसके पीछे का साफ वैज्ञानिक तथ्य यह है कि नींबू मिर्ची नहीं टांगने पर दुकान में कई जहरीले कीट पतंगे प्रवेश कर जाते हैं , तथा मिठाइयों और खाद्य सामग्रियों को कीटाणुओं से भर देते हैं जिसके कारण वह मिठाइयां और खाद्य सामग्री खराब हो जाती है, और वह मिठाईयां दूसरे व्यक्ति द्वारा खाए जाने पर वह बीमार पड़ जाता है। तत्पश्चात वह व्यक्ति उस दुकान से सामान खरीदना बंद कर देता है और दूसरो को भी उस दुकान पर जाने से मना करता है। जिसके कारण दुकान वाले को हानि होने लगती है, और उसे ऐसा लगता है जैसे कि उसकी दुकान पर किसी की बुरी नजर लग गई है। उसकी दुकान में नकारात्मक शक्तियों का वास हो गया है, और वह अंधविश्वास के चक्कर में फस गए बाबाओं के पास जाता है और जब उसे निंबू मिर्ची हटाने का आदेश दिया जाता है।

बाबाओं की बात मानकर वह वापस घर आकर अपने दुकान एवं अपने घर में नींबू मिर्ची टांग देता है। जिसके बाद मक्खियां और कई हानिकारक किट पतंगे दुकान में प्रवेश नहीं कर पाती है और उसकी मिठाइयों एवं खाद्य सामग्री को बर्बाद नहीं कर पाती है जिसके कारण उसका दुकान उचित तरीके से चलने लगता है और उसे काफी मुनाफा होने लगता और उसके घर में लक्ष्मी का वास होने लगता है। और उस व्यक्ति के अंदर यह विश्वास बैठ जाता है कि बुरी शक्तियां, बुरी नजर होती है और उसे दूर करने का सबसे अच्छा उपाय नींबू मिर्ची टांग ना है। या फिर किसी बाबाजी के पास जाकर इसका उपाय लेना है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.