जानकारी का असली खजाना

कौन हैं अहमदिया मुसलमान, जिन पर पाकिस्तान करता है अत्याचार; मस्जिद में एक और हमला

0 49

मुश्किल आर्थिक दौर से गुजर रहे पाकिस्तान में लोगों की धार्मिक मान्यताएं भी अब सुरक्षित नहीं हैं. यहां रह रहे अहमदिया मुस्लिम कट्टरपंथी संगठनों के निशाने पर हैं। पाकिस्तान में शुक्रवार को अहमदिया मुसलमानों के खिलाफ नफरत की एक और घटना सामने आई। हमलावरों ने कराची में कादिया मस्जिद पर हमला किया और तोड़फोड़ की। एक महीने में दो बार मस्जिद पर हमला हो चुका है। कट्टरपंथी धार्मिक पार्टी तहरीक-ए-लबैक ने इस घटना की जिम्मेदारी ली है। यह पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा समर्थित पार्टी है। आइए समझते हैं कि अहमदिया मुसलमान कौन हैं और पिछले कुछ सालों में इस समुदाय के खिलाफ हिंसा क्यों बढ़ी है।

पाकिस्तान के शहर कराची में शुक्रवार को एक बार फिर अहमदिया मुस्लिम चरमपंथियों के निशाने पर आ गए हैं. पाकिस्तानी मीडिया द राइज न्यूज ने ट्वीट किया कि हमलावरों ने कराची में कादिया मस्जिद में तोड़फोड़ की और उसे अपवित्र किया। तहरीक-ए-लब्बेक ने हमले की जिम्मेदारी ली है। यह संगठन पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान का समर्थन करता है। एक माह में यह दूसरी घटना है। इससे पहले कराची के जमशेद रोड पर अहमदी जमात खाना की मीनारें तोड़ दी गईं।

पाकिस्तान में अहमदिया मुसलमानों को निशाना बनाना कोई नई बात नहीं है. दरअसल, इसके पीछे एक लंबा इतिहास है। 1974 में पाकिस्तान की तत्कालीन सरकार ने इस समुदाय को गैर-मुस्लिम घोषित कर दिया। भीड़ के हमलों और हत्याओं के साथ, अहमदिया समुदाय के खिलाफ हिंसा लगातार हो गई है।

मुस्लिम कहने पर भी पाबंदी

पाकिस्तान में जब जिया उल हक सत्ता में आए तो उन्होंने अहमदिया मुसलमानों पर भी जुल्म ढाए। जिया-उल-हक ने अहमदियों को खुद को मुसलमान कहने पर रोक लगा दी। उन पर प्रचार करने और हज के लिए सऊदी अरब जाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। यह वह समय था जब अहमदियों को क्रूरता से सताया गया था। इतना ही नहीं इमरान खान अहमदिया मुसलमानों को भी मुसलमान नहीं मानते थे. उन्होंने कई बार सार्वजनिक रूप से कहा कि वह एक सच्चे मुसलमान नहीं हैं।

अहमदिया पर अत्याचार क्यों?

पाकिस्तान में अहमदियों के उत्पीड़न का सबसे बड़ा कारण उनकी धार्मिक आस्था है। अहमदिया एक धार्मिक आंदोलन है जो 19वीं शताब्दी के अंत में भारत में उभरा। इसकी शुरुआत मिर्जा गुलाम अहमद (1835-1908) ने की थी। अहमदिया आंदोलन के अनुयायी गुलाम अहमद (1835-1908) को पैगंबर मुहम्मद के बाद दूसरा पैगंबर (संदेशवाहक) मानते हैं, जबकि इस्लाम मुहम्मद को ईश्वर द्वारा भेजा गया आखिरी पैगंबर मानता है। अहमदिया को इस्लाम से अलग हुआ संप्रदाय माना जाता है। मुसलमान इस समुदाय को काफिर कहते हैं।

अहमदिया पर शाहबाज सरकार की चुप्पी

इमरान खान ने भले ही अहमदिया मुसलमानों पर कड़ा रुख अपनाया हो, लेकिन शाहबाज की पार्टी पीपीपी-नवाज ने अक्सर अहमदिया मुसलमानों पर नरम रुख अपनाया है। नवाज शरीफ ने अपनी सरकार के दौरान अहमदियों को अपना भाई बताया है। शाहबाज सरकार फिलहाल आर्थिक मोर्चे पर बैकफुट पर है। ऐसे में वे अहमदिया मुसलमानों पर चुप्पी साधे हुए हैं. इसके पीछे जनसंख्या भी एक बड़ा कारण है। इस वक्त देश में अहमदिया मुसलमानों की आबादी 0.09 फीसदी है. 2018 में चुनाव आयोग ने एक बयान में कहा था कि पाकिस्तान में अहमदिया मतदाताओं की संख्या 1.67 लाख थी. वहीं, भारत में अहमदिया मुसलमानों की संख्या दस लाख से अधिक है।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply