वास्तु के ये 3 छोटे उपाय पूरे साल तक आपके जीवन में बड़ी प्रगति लाएंगे

478
loading...

नींद की आदत में बदलाव करें

सिर को उत्तर की ओर रखकर सोने से चुंबकीय प्रवाह अवरुद्ध हो जाएगा, जिससे मनुष्य के लिए ठीक से सोना असंभव है। वास्तु के अनुसार, इस दिशा में सिर रखकर सोने से नींद में खलल पड़ता है, जिससे सिरदर्द हो सकता है, मानसिक बीमारियों की संभावना बढ़ जाती है, इसलिए यदि वस्तु की मानें तो इस दिशा में सिर रखकर कभी न सोएं।

वास्तु कहता है कि एक स्वस्थ जीवन और लंबी आयु की चाहत रखने वाले व्यक्ति को हमेशा अपने सिर को दक्षिण की ओर और पैरों को उत्तर की ओर करके सोना चाहिए। इस दिशा में बढ़ने पर, व्यक्ति को नींद के माध्यम से धन, सुख, समृद्धि और प्रसिद्धि मिलती है।

इसके अलावा, व्यक्ति गहरी नींद में आराम से सो जाता है। पूर्व दिशा में सोने से याददाश्त, एकाग्रता और स्वास्थ्य में सुधार होता है और व्यक्ति का आध्यात्मिकता की ओर झुकाव बढ़ता है। तथ्य की बात के रूप में, छात्रों के लिए स्मृति और एकाग्रता बढ़ाने के लिए पूर्व की ओर बढ़ना फायदेमंद हो सकता है।
जल के देवता, वरुण, को पश्चिम का स्वामी कहा जाता है, जो कि हमारा है।

वास्तु के अनुसार, पश्चिम दिशा में सोना भी सुविधाजनक है क्योंकि यह दिशा नाम, प्रसिद्धि, प्रतिष्ठा और समृद्धि को बढ़ाती है।

स्वस्थ खाना

घर के पश्चिमी क्षेत्र में वास्तु शास्त्र के अनुसार स्वस्थ भोजन खाने का सबसे अच्छा स्थान है। इसलिए घर के पश्चिम दिशा में डाइनिंग हॉल शुभ फल देता है। इस क्षेत्र में भोजन करने से भोजन से संबंधित सभी आवश्यकताएं पूरी होती हैं और पोषण मिलता है, जिससे स्वास्थ्य अच्छा होता है।

घर का उत्तर-पूर्व या पूर्व क्षेत्र एक और भोजन विकल्प है।

घर के दक्षिण-पश्चिम की तरफ डाइनिंग रूम नहीं होना चाहिए, क्योंकि यहां खाने से शरीर को किसी भी तरह की ऊर्जा और पोषण नहीं मिलता है, इससे रिश्ते में कड़वाहट आती है।

भोजन कक्ष के सामने का दरवाजा या शौचालय होने से संघर्ष और मानसिक परेशानी हो सकती है।

पूर्व खाने से दीर्घायु की संभावना बढ़ जाती है, जबकि पश्चिम खाने का मतलब समृद्धि और संपन्नता है। दक्षिण की ओर मुख करना हानिकारक नहीं है, लेकिन उत्तर की ओर भोजन करना स्वस्थ नहीं माना जाता है।

पूजा का पूर्ण फल

पूजा का पूरा फल घर या ऑफिस में पूजा के स्थान से उत्तर-पूर्व में रखना चाहिए। ऐसा करने से परिवार में खुशियां बढ़ती हैं।

वास्तु शास्त्र कहता है कि धन के अधिग्रहण के लिए उत्तर में पूजा की जाती है और पूर्व में विज्ञान के अधिग्रहण के लिए चमत्कारी लाभ मिलते हैं।

पूजा कक्ष में हल्के हरे, पीले, बैंगनी या क्रीम रंग जैसे सात्विक रंगों का उपयोग करने से मानसिक शांति मिलती है।

शंख मंदिर में रहना चाहिए। शंख सभी विघ्नों को दूर कर घर में शांति और सुख बनाए रखता है।

दक्षिण-पश्चिम दिशा में बने कमरों का उपयोग पूजा के लिए नहीं किया जाना चाहिए।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.