जाने आपकी बगल आपके स्वास्थ्य के बारे में क्या बताती हैं?

0 89

आपकी बगल में किस तरह से खुशबू या बदबू आती हैं और आप इसके लिए करते क्या हैं? जिस तरह आपकी आँतों में कीटाणुओं का जाल होता है, जो आपको रोगों से बचता है उसी तरह आपकी बगल में भी कीटाणु होते हैं। आपकी आंतों की तरह ही आपकी बगल के नीचे बड़ी तादाद में कीटाणु रहते हैं और आपका डिओडरंट आपकी बदबू को कम करता है। हमारे हाथ, त्वचा, आंत और थूक में मौजूद कीटाणु हमें कई ऐसे जिवाणु से बचाते है, जो हमारे शरीर के नहीं होते।

हमारे बगलों में से आने वाली बदबू उन्ही कीटाणुओं की होती है जो वह रहते है और यह कीटाणु हमारी आँतों वाले होते हैं जो हमें रोगों से बचाते हैं। हालिया रिसर्च ने बताया है कि हमारे शरीर की बदबू जल्दी माइक्रो बायोम को बदल देती है। हर किसी में माइक्रो बायोम होता है जो वातावरण के साथ बदलता है। हमारे बायोम हमें रोगों से बचाते है और इन्ही से हमारे शरीर की बदबू बनती है। कई लोगों का कहना है की डिओडरंट में कैंसरकारी तत्व होते हैं वही कुछ लोगों का कहना है कि इस बात का कोई ठोस साबुत नहीं है।

armpit, health, cancer, smell, reason, about

ब्रैस्ट कैंसर वक्ष के बाहरी और ऊपरी हिस्से में उत्पन होता है और एक अध्याय के मुताबिक उस क्षेत्र में टिश्यू की मात्रा और लगाने वाले डिओडरंट पर यह आधारित होता है।
एक बहस के मुताबिक डिओडरंट में मौजूद अलुमिनम से पसीना नहीं आता और यह कैंसरकारी हो सकता है क्यूंकि यह धातु एस्ट्रोजन की तरह काम करता है।

कीटाणुओं का हमारी बगल से जुड़ना

रालेगण में नार्थ कैरोलिना म्यूजियम ऑफ़ नेचुरल साइंस के मुताबिक डिओडरंट हमारी बगल के कीटाणुओं को दबा देता है। यह अध्याय एक सबूत के तौर पर आया है कि हमारा स्वास्थ्य हमारी आंतो में मौजूद कीटाणुओं से जुड़ा होता है और एक प्रश्न खड़ा होता है कि क्या यह प्रोडक्ट हमारी त्वचा के जीवाणु को मारने के अलावा हमारे शरीर में पैदा होने वाले बाकी जीवाणुओं को भी ख़त्म कर रहे है।

armpit, health, cancer, smell, reason, about

हमारी बगल में दो प्रकार के बैक्टीरिया होते है: Corynebacterium और Staphylococcaceae । जो लोग कोई भी डिओडरंट का इस्तेमाल नहीं करते उनमें Corynebacterium ज़्यादा होता है, जिससे बदबू आती है और जो लोग डिओडरंट का इस्तेमाल करते है उनमें Staphylococcaceae ज़्यादा होता है और यह हमारे शरीर के लिए अच्छा और बुरा हो सकता है और यह इस बात पर निर्भर करता है कि यह बाकि जीवाणुओं के साथ कितना मिलता है. .

loading...

loading...

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.