भारतीय आर्थिक पतन को रोकने के लिए अर्जेंट एक्शन है बहुत जरुरत -अभिजीत बनर्जी

625

यह सच है कि भारतीय अर्थव्यवस्था गिरावट में है; ‘इस साल का अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार,’ अभिजीत बनर्जी ने कहा, इसे रोकने के लिए तत्काल उपायों की आवश्यकता है।

loading...

नेशनल हेल्थ मिशन (NHM), उत्तर प्रदेश में निकली 1400+ वैकेंसी, कोई आवेदन फीस नहीं

दसवीं पास वालों के लिए CISF कांस्टेबल और ट्रेडमैन में आई बम्पर भर्ती – देखें पूरी जानकारी

12th पास दिल्ली पुलिस नौकरियां 2019: 554 हेड कांस्टेबल पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन करें

DSSSB में निकली फायरमेन पदों पर 10वीं  पास लोगो के लिए दिल्ली में नौकरी – Apply Online for 706 Posts

Urgent action is necessary to prevent Indian economic collapse - Abhijeet Banerjee

इस साल अर्थशास्त्र में नोबेल पुरस्कार की घोषणा भारत-अमेरिकी अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी, फ्रांसीसी मूल के अमेरिकी एस्टे डफ्लो और अमेरिकी अर्थशास्त्री माइकल क्रेमर ने की थी। अभिजीत बनर्जी ने मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) में मंगलवार को पत्रकारों से बात करते हुए, जहां वह काम कर रहे हैं, ने भारतीय अर्थव्यवस्था की वर्तमान स्थिति पर अपने विचार साझा किए। उसने कहा:

Urgent action is necessary to prevent Indian economic collapse - Abhijeet Banerjee

राजकोषीय नीतियों के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि अर्थव्यवस्था पटरी पर है। वर्तमान स्थिति भारतीय अर्थव्यवस्था में तरलता को बढ़ाना है। हमें अधिक पैसा बनाने की जरूरत है, मुख्य रूप से गरीबों और सरल लोगों के हाथों में।

Urgent action is necessary to prevent Indian economic collapse - Abhijeet Banerjee

मेरी निजी राय है कि भारतीय अर्थव्यवस्था ख़राब है। देश के शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में वस्तुओं और सेवाओं की मांग घट रही है। यह देश की अर्थव्यवस्था के लिए एक बुरा संकेत है। भारतीय अर्थव्यवस्था पर जारी आंकड़ों के बारे में भारत में कई बहसें हैं। इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि अर्थव्यवस्था के अवमूल्यन के जारी किए गए सभी आंकड़े झूठे हैं। आर्थिक मंदी को रोकने के लिए आपातकालीन उपायों की आवश्यकता है।

Urgent action is necessary to prevent Indian economic collapse - Abhijeet Banerjee

भारत की आर्थिक विकास दर हाल ही में घट रही है। औद्योगिक उत्पादन भी घट रहा है। ऑटोमोटिव उद्योग को एक बड़े सर्पिल का सामना करना पड़ा है।

इन समस्याओं को बढ़ने से रोकने के लिए, रिज़र्व बैंक ने कई ब्याज दरों में कटौती की घोषणा की है। केंद्र सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को भी छोटे, मध्यम और मध्यम उद्यमों को कर्ज देने का आदेश दिया है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.