अनोखी परंपरा : यहां दुल्हन लेती है दूल्हे की बहन के साथ सात फेरे, बहन ब्‍याह कर घर लाती हैं दुल्‍हन को

1,521

गुजरात के आदिवासी इलाकों में जहां ऐसी अनोखी परंपराएं हैं कि आप दांतों तले उंगलियां दबा लें। यहां दूल्हे को बारात में जाने की अनुमति नहीं है वह अपने घर पर ही रहता है लेकिन उसकी जगह उसकी अविवाहित बहन दूल्हे के रूप में सारी रस्में अदा करती है।

Unique tradition Here the bride takes the bride's sister with seven rounds, the sister brings her home to the brideअगर बहन नहीं है तो दूल्हे के परिवार की कोई और कुंवारी कन्या दूल्हे की ओर से जाती है। ऐसी स्थिति में दूल्हा घर पर अपनी मां के साथ रहता है लेकिन उसकी बहन दुल्हन के दरवाजे पहुंचती है, उससे शादी करती है और उसे लेकर घर वापस आती है। हालांकि, दूल्हा शेरवानी पहनता है, साफा भी धारण करता है, तलवार भी बांधता है लेकिन अपनी ही शादी में शामिल नहीं हो पाता।

Unique tradition Here the bride takes the bride's sister with seven rounds, the sister brings her home to the bride

सुरखेड़ा गांव के कांजीभाई राठवा कहते हैं, आम तौर पर सारी पारंपरिक रस्में जो दूल्हा निभाता है वह उसकी बहन करती है। यहां तक कि मंगल फेरे भी बहन ही लेती है। राठवा आगे बताते हैं, लेकिन इस परंपरा का पालन यहां के केवल तीन गांवों में ही होता है। ऐसा माना जाता है कि अगर हम इसका पालन न करें तो कुछ न कुछ अशुभ जरूर घटित होता है।

Unique tradition Here the bride takes the bride's sister with seven rounds, the sister brings her home to the bride

सुरखेड़ा गांव के मुखिया रामसिंहभाई राठवा कहते हैं, जब भी लोगों ने इस परंपरा को अस्वीकार कर इसकी अनदेखी की है उनका नुकसान हुआ है। कई बार लोगों ने कोशिश की कि इस परंपरा को न मानें तो ऐसे में देखा गया कि या तो शादी टूट जाती है या वैवाहिक जीवन सुखद नहीं रहता, या फिर कोई और समस्या उठ खड़ी होती है।

Unique tradition Here the bride takes the bride's sister with seven rounds, the sister brings her home to the bride

पंडितों का कहना है कि यह अनोखी परंपरा आदिवासी संस्कृति की पहचान है। यह एक लोककथा का हिस्सा है जिसका पालन अनंतकाल से चला आ रहा है। इस कथा के मुताबिक, तीन गांवों- सुरखेड़ा, सानदा और अंबल के ग्राम देवता कुंवारे हैं। इसलिए उन्हें सम्मान देने के लिए दूल्हे घर पर ही रहते हैं। ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से दूल्हे सुरक्षित रहते हैं।

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

loading...

Comments are closed.