टोन्सिल के लक्षण और इलाज

828

टोन्सिल (tonsils) हमारे शरीर में पहले से ही मौजूद होता है, यह हमारे जीभ के पीछे की भाग से सटा हुआ होता है | यह हमारे गले में जहा पर नाक का छिद्र तथा मुख का छिद्र मिलता है, ठीक वही पर जीभ के पिछले भाग से जुडा हुआ स्थित पाया जाता है | सामान्य अवस्था में टोन्सिल से किसी भी तरह का परेशानी नहीं होती है | परन्तु अगर किसी कारण वास इसमें संक्रमण हो जाये या इसमें सुजन आ जाये तो इससे काफी दर्द होता है | दर्द के कारण कभी कभी खाना खाने में एवं मुह को खुलने में काफी तकलीफ होने लगता है |

टोन्सिल के लक्षण  / Tonsils ke lakshan

  • गले में खरास महसूस होना |
  • कंठ में तेज दर्द रहना |
  • कान के निचले भाग में भी दर्द रहता है |
  • दर्द के कारण बुखार भी रहता है |
  • शरीर में कमजोरी लगने लगती है |
  • टोन्सिल होने के कारण
  • ठण्ड मौसम के कारण |
  • ठंडी चीज के सेवन करने से |
  • किसी तरह के virus या bacteria के कारण हमारे गले में संक्रमण होने से |
  • Ice cream खाने या ठंडी शीतल पेय को पिने से |
  • शर्दी जुकाम के कारण भी टोन्सिल होने लगता है |

टोन्सिल का उपचार / Treatment of tonsil / Tonsils ka ilaj

एक ग्लास गर्म पानी ले |
उसमे एक नीबूं को काट कर उसके आधे भाग से रस को गर्म पानी में निचोड़ दे |
फिर उस गर्म पानी में 2 से 3 चम्मच शहद को मिला दे |
रोजाना दिन में तीन (3) बार उस घोल को एक सप्ताह तक सेवन करे |
गाजर (carrot) – गाजर में कारोतें नाम की gradients होते है जिसके कारण गाजर का रंग लाल होता है | गाजर में पाए जाने वाले यह gradients antitoxicant होते है | गाजर के सेवन से गले में होने वाले संक्रमण से बचा जा सकता है | जो टोन्सिल (tonsil) होने से भी बचाता है |

Advertisement

दूध, हल्दी, एवं  गोलकी (milk, turmeric and papper mint powder) –  दूध हल्दी एवं गोलकी का मिश्रण बना कर पिने से बुखार गले का दर्द और सुजन कम होने लगता है | इसी वजह से इस मिश्रण का इस्तेमाल टोन्सिल होने पर किया जाता है | क्योकि टोन्सिल होने पर बुखार दर्द और सुजन होने लगता है |
एक ग्लास में गर्म दूध ले |
उस दूध में आधा चम्मच हल्दी का powder तथा आधा चम्मच गोलकी का powder को मिलाकर घोल दे |
रोजाना रात में सोने से पहले उस दूध को पिये
नीबूं और शहद ( lemon and honey ) – नीबूं और honey में नमक मिला कर सेवन करने से गले की सुजन भी कम होता है, साथ में गले का खरास भी दूर होता है |

2 से तीन गाजर को juice बना कर रोजाना दिन में तीन बार पिये |
चुकुन्दर (beet juice) – beet में भी toxic agents पाए जाते है | जो virus तथा बेक्टेरिया से होने वाले संक्रमण से बचाता है |

beet का इस्तेमाल भी juice बनाकर किया जा सकता है |
गर्म पानी से गर्गिल (gargil with luke warm water) – रोजाना सुबह उठ कर एक ग्लास हलके गर्म पानी में एक चम्मच नमक मिला कर गर्गिल करने से भी tonsil का सुजन कम होने लगता है |

क्या न करे / kya na kare

अगर आपको tonsil हुआ हो तो कुछ बातो का खास ध्यान रखना काफी आवाश्यक हो जाता है, जैसे-

दही , मलाई वाली दूध आदि का सेवन न करे |
मसालेदार खाना , तला हुआ चीजो को खाने से परहेज करे |
अगर आपको tonsil की परेशानी है तो आप धुम्रपान न करे तो बेहतर होगा |
किसी भी प्रकार की ठंडी चीजो का सेवन करने से बचने की कोशिश करनी चाहिए |

Sab Kuch Gyan से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे…

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Advertisement

loading...

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.