कैंसर समाप्त हो जाता है सिर्फ 4 चक्कर लगाने से इस चमत्कारी मंदिर में , देखें अभी

1,898

हमारा देश एक ऐसा देश है जहाँ धर्म के प्रति लोगों का विश्वास सबसे ज्यादा है। खासकर हिन्दू में अपने सभी देवी देवताओं की ख़ास अहमियत है। इसलिए हर गली नुक्कड़ पर आपको किसी ना किसी देवता का मंदिर देखने को मिल ही जाता है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

लेकिन जहाँ एक तरफ लोगों में कुछ हद तक अंधविश्वास है वहीं काफी हद तक विज्ञान भी ईश्वर के चमत्कारों के आगे नतमस्तक है।

इसलिए आज हम आपको एक ऐसे हनुमान जी के मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जहाँ ये मान्यता है की यदि कोई भी बीमार व्यक्ति यहाँ आकर सिर्फ पांच परिक्रमा पूरी कर ले तो हनुमान जी उसके सभी दर को हर लेतेहै।

This temple can make your cancer go away , मंदिर
हनुमान जी का ये चमत्कारी मंदिर मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश की सीमा पर

स्थित भिंडे जिले के दंदरौवा गावं में है।

इस गावं के लोगों का कहना है की यहाँ अगर कोई भी बीमार व्यक्ति चला जाए

और पांच परिक्रमा पूरी करके मंदिर का विभूत लगा लें तो उनके सभी कष्ट दूर हो जाते हैं।

इस गावं के लोगों का मानना है की यहां हनुमान जी खुद भक्तों को दर्शन देते हैं

और डॉक्टर के वेश में आकर मरीजों का इलाज करते हैं।

इस गावं के बहुत से कैंसर पीड़ित लोगों का कहना है की उनकी बीमारी हनुमान जी ने हर ली

और उन्हें जीवनदान दिया जिस वजह से आज वो अपनी जिंदगी पूरी तरह से निरोग होकर बीता रहे हैं।

This temple can make your cancer go away , मंदिर

इस मंदिर के बारे में कहते है की ये मंदिर करीबन तीन सौ साल पुरानी है।

यहाँ स्थित एक नीम के पेड़ के नीचे से हनुमान की गोपी वेश में मूर्ती मिली थी

जो की आज भी यहाँ के मंदिर में स्थापित है।

बता दें की सम्पूर्ण हिन्दुस्तान में केवल यहीं हनुमान जी का एकमात्र मंदिर है

जहाँ आपको हनुमान जी के नृत्य अवतार में मूर्ती देखने को मिलेगी।

यहाँ हनुमान जी के चमत्कारों की बात करें तो इस मंदिर में करीबन सालों पहले एक साधू रहता था जो की

कैंसर रोग से ग्रसित था और एक दिन उसने देखा की हनुमान जी खुद डॉक्टर के वेश में आकर उसका इलाज कर रहे हैं

और महज विभूति लगा देने से ही उसके सभी कष्ट भी दूर हो गये।

इस प्राचीन हनुमान मंदिर को पहले लोफ दर्दहरौआ मंदिर के नाम से भी जानते थे

यानि की दर्द हरने वाला लेकिन बाद में इसका नाम बदलकर दर्दरौआ कर दिया गया।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.