इन स्पेशल लोगो को ज्यादा तंग करते है मच्छर, क्या आपको भी काटते है?

236

आजकल मच्छरों कहर काफी बढ़ता जा रहा है,यह सिर्फ भारत की समस्या नहीं है विश्व के कई देश मच्छरों की वजह से वहा के नागरिक काफी परेशान है। हमारे भारत देश की बात करे तो हर साल मच्छर जन्य रोगों से मरने वालो की तादात लाखो में होती है,मलेरिया और डेंगू जैसी जानलेवा बीमारियां अब आम होती जा रही है।

वही देश के हर शहर में नगर पालिका और महा नगर पालिका और ग्राम पंचायत की तरफ से कई तरह के जन जाग्रति अभियान और दवाइयां मुफ्त सप्लाई की जाती है,फिर भी इन मच्छरों से बच पाना आम आदमी के लिए काफी मुश्किल होता जा रहा है।चलिए हम आपको हम मुद्दे की और लेकर चलते है ऐसा देखा गया है की मच्छर कुछ व्यक्ति विशेष को भी ज्यादा अपना शिकार बनाते है ऐसा क्यों चलिए हम आपको बताते है।

loading...

हम बचपन से अक्सर यह सुनते आये है की जिसका खून मीठा होता है उसे मच्छर ज्यादा परेशान करते है,लेकिन इसके आलावा भी कुछ वैज्ञानिक कारण भी है। दरअसल फिमेल मादा मच्छर ही काटते है क्योकि मादा मच्छर को जिन्दा रहने के लिए आईसोल्युसिन की जरुरत पड़ती है जो सिर्फ मनुष्य में ही पाया जाता है ,जो इनको आपके खून से मिलता है।कई बार आपके खून का रिश्ता याने के आपके माता-पिता की जिनेटिक की वजह से भी आपकी और आकर्षित होती है जो की आपके डीएनए में होता है। अभी इस बारे में शोध हो रही है जिसमे पाया गया है एक खास द्रव्य उन्हें आपकी और आकर्षित करती है आपका खून पिने के लिए।

यह भी एक ख़ास कारण है की जब आप सांस छोड़ते है तो आप कार्बन डाईऑक्साइड छोड़ते है जो मच्छरों को आपकी मौजूदगी का एहसास अँधेरे में भी करवाती है। एक मुख्य कारण अगर आपके पसीने में लैक्टिक एसिड बन रहा है तो मच्छरों को आपको ढूढ़ने में ज्यादा वक्त नहीं लगेगा।देखा गया है की गर्भवती महिलाये इन मच्छरों से परेशान रहती है इसका कारण यह है की गर्भवती महिलाये गहरी सांस लेती है और ज्यादा मात्र में कार्बन डाई ऑक्साइड गैस छोडती है इसके कारण मच्छर उनको ज्यादा तंग करते है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.